आपको ये जानकर बहुत गर्व होगा कि अन्तरिक्ष यात्री कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स के बाद अब शावना पंड्या का नाम भारत की तरफ से आंतरिक्ष यात्री के तौर पर जुड़ने वाला है. आपको बता दें कि शावना भारतीय मूल की तीसरी महिला हैं, जो पेशे से एक न्यूरो सर्जन हैं, जो स्पेस की उड़ान भरने वाली हैं.

Source: livehindustan

डाक्टर शावना पंड्या कनाडा की अलबर्ट यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में जरनल सर्जन के रुप में काम कर रहीं हैं. इसके साथ ही वो अंतरिक्ष मिशन के एस्ट्रोनॉट की तैयारी भी तैयारी कर रही हैं.

आइये अब शावना पंड्या के बारे में जानते हैं

Source: hindustantimes

32 वर्षीय शावना का जन्म कनाडा में हुआ था. वो उन दो अंतरिक्ष यात्रियों में से हैं, जिनको सिटीज़न साइंस एस्ट्रोनॉट कार्यक्रम के अंतर्गत 3200 प्रतिभागियों में से चुना गया है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वो 2018 में अतंरिक्ष में जाने वाले मिशन का हिस्सा होंगी और इस मिशन के तहत कुल आठ लोग अतंरिक्ष में जाएंगे.

Source: storypick

शावना की जड़ें मुंबई से जुड़ी हुई हैं. हाल ही में अपनी फैमिली से मिलने के लिए शावना मुंबई आईं थीं. उन्होंने बताया कि बचपन से ही वो एस्ट्रोनॉट बनने का सपना देखा करती थीं, लेकिन उन्हें डाक्टरी ज़्यादा पसंद थी. शावना के माता-पिता मुंबई में रहते हैं. वो फिलहाल कनाडा में रह रहीं है. शावना ने यूनिवर्सिटी ऑफ़ अल्बर्टा से न्यूरोसाइंस में बीएससी की. इसके बाद उन्होंने इंटरनेशनल स्पेस यूनिवर्सिटी से स्पेस साइंस में मास्टर्स किया और फिर मेडिसिन में एमडी किया. शवाना को अंग्रेजी के अलावा फ्रेंच और हिंदी भाषा भी काफी अच्छी तरह आती है.

Source: aajtak

गौरतलब है कि शावना एक ओपरा सिंगर, लेखक, इंटरनेशनल ताइक्वोंडो चैंपियन तो हैं ही, साथ ही उन्होंने नेवी सील की ट्रेनिंग भी ली है.

Source: livehindustan

हिन्दुस्तान टाइम्स से बात करते हुए डाक्टर शावना पंड्या ने बताया कि 2018 में होने वाले अंतरिक्ष मिशन में वो बायो-मेडिकल और मेडिकल साइंस पर प्रयोग करेंगी. उनके प्रोजेक्ट का नाम 'पोलर सबऑर्बिट साइंस' है, जिसके अंतर्गत वो जलवायु परिवर्तन पर अध्ययन करेंगी.

Source: abpnews

आपको ये भी बता दें कि शावना ने फ्लोरिडा में 100 दिन तक पानी के अंदर रहने का भी प्रशिक्षण लिया है. इस प्रशिक्षण में उनके साथ कनाडा, अमेरिका और स्पेन के दस पार्टिसिपेंट्स और भी थे. 'पोलर सबआर्बिटल साइंस इन द अपर मेसोस्फीयर्स' (POSSUMS) प्रोजेक्ट के लिए यह प्रशिक्षण अमेरिका की इबरी-रिडिल एरोनॉटिकल यूनिवर्सिटी में हो रहा है.

ग़ज़बपोस्ट शावना को बहुत बधाई और शुभकामनायें!

Feature Image Source: livehindustan

Source: hindustantimes