बांग्लादेश जल्द ही वहां के ग्रामीण इलाकों में बसने वाले लोगों के लिए एक विशेष प्रकार की एम्बुलेंस चलाने वाला है. ये अपने आप में एक अलग तरह की तिपहिया एम्बुलेंस होगी. साथ ही ये पूरी तरह से सौर ऊर्जा से संचालित होगी. इस एम्बुलेंस की लाइट्स भी सोलर एनर्जी से ही जलेंगी.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये एम्बुलेंस बांग्लादेश में वर्तमान में यूज़ होने वाले हाथ रिक्शा से सस्ती हैं. इसमें सभी तरह के मेडिकल इक्यूप्मेंट्स हैं और ये ज़्यादा तेज़ भी चलती है. ये ग्रामीण इलाकों में बिना बिजली के आसानी से इस्तेमाल की जा सकती है. इसके अलावा, ग्रामीण इलाकों में मौजूद हेल्थ सेंटर्स में, जहां बेहतर सुविधाओं की कमी है और वहां के लोग एम्बुलेंस सुविधा का खर्च भी नहीं उठा सकते, ऐसे इलाकों में ये बेहद कारगर है. ये एम्बुलेंस वहां के गरीब लोगों के लिए उपयुक्त है.

इस एम्बुलेंस में हैं कुछ ख़ास फ़ीचर्स

एम्बुलेंस का ये प्रोजेक्ट वाहन बनाने वाली कंपनी Beevatech और ढाका में स्थित BRAC University के Control and Applications Research Centre ने साथ मिलकर शुरू किया है. बांग्लादेश कमज़ोर अर्थ व्यवस्था से जूझ रहा है, जिस कारण वहां की स्वास्थ्य सेवायें भी अधिक सुदृढ़ नहीं हैं.

Bangladesh’s Infrastructure Development Company Limited के द्वारा वर्ल्ड बैंक इसके लिए आर्थिक मदद दे रहा है. हालांकि इस एम्बुलेंस का काम पूरा हो चुका है और अब इसकी टेस्टिंग चल रही है. अनुमान लगाया जा रहा है कि ये एम्बुलेंस सेवा बांग्लादेश में 2017 में शुरू हो जायेगी.

Source: planetcustodian