अनुपमा श्रीवास्तव ने अपने पालतू कुत्ते को खो दिया, कुत्ते का नाम ब्राउनी था. ये इस तरह की पहली घटना नहीं थी. अनुपमा ने ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए इंटरनेट पर एक अभियान चलाया है #justiceforBrownie. इसके ज़रिए वो सबके सामने इस बात को लाना चाहते हैं कि आस-पास में ऐसे बहुत से कुत्ते हैं, जिन्हें कुछ इसी तरह से लोग अगवा कर खा जाते हैं.

रिपोर्ट के अनुसार, ब्राउनी सिकंदरपुर से 1 अप्रैल से लापता था, जिसे कुछ दिनों बाद कुछ लोग मार कर खा गए. #justicefor Brownie अभियान के बाद, जानवरों से जुड़ी एक संस्थान People For Animals ने FIR दर्ज भी करवाई और कहा कि उनके पास एक वीडियो है, जिसमें कुछ लोग ये क़ुबूल कर रहें है कि वो इस तरह कुत्तों को अगवा कर खाते हैं.

अनुपमा ने एक चौंका देने वाला बयान भी दिया है, उसने कहा कि हम रोज़मर्रा के जीवन में बाहर जो मांसाहारी खाना खाते हैं, उसमें कुत्ते का मांस होता है. जैसे- मोमोज़, बिरयानी, कबाब.

अनुपमा ने अपने कुत्ते को ढूंढने के लिए 2000 हज़ार का पोस्टर छपवाया था और 5000 हज़ार ईनाम देने की भी घोषणा की थी. पुलिस ने भी मामले की छानबीन की, लेकिन सबूत के कमी के चलते, किसी की गिरफ़्तारी नहीं हो सकी.

Source: indiatimes