जज़्बा और जूनून हो तो कोई भी कमी आपको मनचाहा मक़ाम हासिल करने से रोक नहीं सकती है. ऐसा ही कुछ जज़्बा दिखाया है स्पेन की इस ब्लाइंड महिला सर्फ़र ने. इनका नाम Carmen Lopez Garcia है. ये स्पेन की पहली महिला ब्लाइंड सर्फ़र हैं. Carmen को उनके मक़सद में क़ामयाबी दिलाने के लिए उनका साथ दिया है उनके कोच Lucas Garcia.

Source: akamaized

21 साल की Lopez समंदर को देख नहीं सकती, लेकिन उसकी लहरों को महसूस करके सीखती हैं. इसके अलावा वो सीटी की आवाज़ से सीखती हैं. अपने मक़सद को पूरा करने के लिए Lopez बहुत मेहनत कर रही हैं. ये World Adaptive Surfing Championship, La Jolla, California में 12 से 16 दिसंबर तक आयोजित की गई थी. ऐसा पहली बार हुआ है किसी ब्लाइंड प्रतियोगी ने इस चैंपियनशिप में हिस्सा लिया है.

Source: b'Source:\xc2\xa0'

Lopez की प्रैक्टिस के दौरान उनके कोच भी समंदर में उनके साथ होते हैं. उनकी ट्रेनिंग में एक सीटी का मतलब होता है कि लहर उनके दायें तरफ़ है और दो सीटी का मतलब होता है कि लहर उनके बायें तरफ़ है.

Source: arysports

Lopez का कहना है,

मैं दूसरों से अलग नहीं हूं. मैं पैदा ही इस बीमारी के साथ हुई थी, जिसका नाम Congenital Glaucoma है. इसलिए बचपन में ही मेरी आंखों की रोशनी चली गई थी. मुझे समंदर के पास शांति मिलती है. इसलिए अगर मैं कहीं होती तो वो यही समंदर होता. मुझे अपने डॉग के साथ खेलना अच्छा लगता है.

इस Championship के बाद, जिसे International Surfing Association (ISA) आयेजित किया था, अब वो 2024 में होने वाले Paraolympic Games की तैयारी में जुट गई हैं. Lopez का कहना है कि वो अपने जैसे और लोगों को भी प्रोत्साहित करना चाहती हैं, ताकि वो भी अपनी क्षमता को पहचाने और आगे बढ़े.

Source: hindustantimes