इन दिनों इंग्लैंड में 'एशेज़ सीरीज़' खेली जा रही है. ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच खेले जानी वाली ये सीरीज़ क्रिकेट की सबसे बड़ी जंग कही जाती है. 'एशेज़ सीरीज़' दोनों ही देशों के लिए बेहद अहम मानी जाती है.

Source: gulfnews

4 सितंबर से दोनों देशों के बीच मैनचेस्टर में सीरीज़ का चौथा टेस्ट खेला जा रहा है. दोनों ही टीमें सीरीज़ में एक-एक मैच जीत चुकी हैं. इस हिसाब से ये टेस्ट बेहद अहम माना जा रहा है. जो टीम जीतेगी उसके लिए सीरीज़ जीतना आसान हो जायेगा.

Source: livehindustan

'एशेज़ सीरीज़' का क्रेज़ दोनों ही देशों में देखने लायक होता है. हर मैच के दौरान स्टेडियम लगभग हाउसफ़ुल रहते हैं. मैच देखने के लिए फ़ैंस कुछ भी करने को तैयार रहते हैं.

Source: standard

आज हम आपको 'एशेज सीरीज़' के एक ऐसे ही फ़ैन से आपकी मुलाक़ात कराने जा रहे हैं जिसकी उम्र तो छोटी है, लेकिन उनके कारनामे जान हैरान रह जाएंगे. हम बात कर रहे हैं ऑस्ट्रेलिया के 12 वर्षीय Max Waight की.

Source: cricket

Max पिछले 4 साल से कचरा साफ़ कर रहे थे ताकि इंग्लैंड जाकर 'एशेज़ सीरीज़' देख सकें. मतलब ये कि मैक्स जब मात्र 8 साल के थे तब से ही 'एशेज़ सीरीज़' देखने का सपना देख रहे थे. आख़िरकार 4 साल बाद मैक्स को इंग्लैंड जाकर 'एशेज़ सीरीज़' देखने का मौक़ा मिल ही गया है.

Source: punjabkesari

इसके पीछे की कहानी है बेहद दिलचस्प

दरअसल, मैक्स ने साल 2015 में ऑस्ट्रेलियाई टीम को होमग्राउंड पर 'वर्ल्ड कप' जीतते देखा था. इसके बाद मैक्स ने 2019 में इंग्लैंड जाकर 'एशेज़ सीरीज़' देखने का प्लान बनाया. लेकिन मैक्स के पिता Damien Waight ने एक शर्त रख दी.

डैमियन ने कहा कि अगर तुम्हें 4 साल में 1500 ऑस्ट्रेलियाई डॉलर कमा लिए, तो मैं तुम्हें इंग्लैंड लेकर चलूंगा. इसके बाद मैक्स अपने एशेज़ मिशन में जुट गए. इसके लिए मैक्स और उसकी मां ने अपने पड़ोसियों के घर जाकर कचरा साफ़ करके पैसा कमाने की योजना बनाई. इस काम के लिए लोग उन्हें 1 दिन का 1 ऑस्ट्रेलियन डॉलर देते थे.

Source: cricket

इसके बाद मैक्स ने अपने सभी पड़ोसियों को चिठ्ठी लिखकर अपने 'कचरा प्रबंधन' के बारे में विस्तार से समझाया. योजना के तहत मैक्स और उनकी मां हर वीकेंड पड़ोसियों के घर के सामने से कचरे का डब्बा उठाने का काम करेंगे. पड़ोसियों को उनकी ये स्कीम अच्छी लगी. इसके बाद उन्हें ज़्यादा पैसे मिलने लगे. वो लगातार 4 साल ये काम करते रहे. 1500 ऑस्ट्रेलियाई डॉलर जमा होते ही उसके पापा ने इंग्लैंड का टिकट बुक करा दिया.

Source: bhaskar

जब मैक्स की कहानी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को पता चली तो उन्होंने खुद उसे टीम से मिलने के लिए बुलाया. मंगलवार को मैक्स को मैनचेस्टर जाने के दौरान टीम बस में मुख्य कोच जस्टिन लेंगर के साथ बैठने का मौक़ा मिला. लंच ब्रेक के समय तेज़ गेंदबाज़ जेम्स पैटिंसन ने मैक्स को ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की साइन की हुई टीम जर्सी गिफ़्ट की.

Source: bhaskar

इसके बाद बुधवार को मैक्स को मैनचेस्टर में सीरीज़ का चौथा टेस्ट मैच देखने का मौक़ा मिला. इस दौरान वो वीआईपी बॉक्स में बैठकर अपनी टीम के लिए चियर करते दिखे. इस दौरान मैक्स ने अपने दो पसंदीदा क्रिकेटर स्टीव स्मिथ और पैट कमिंस से भी मुलाकात की.

मैक्स ने कहा, 'स्टीव स्मिथ और पैट कमिंस मेरे पसंदीदा क्रिकेटर हैं. इस दौरान मैंने उनसे बात की और पूछा कि वो ख़ुद को मैच के लिए कैसे तैयार करते हैं? उनके साथ वक़्त बिताना बेहद मज़ेदार था.