पिछले कुछ सालों से क्रिकेट मैचों की संख्या बहुत बढ़ चुकी है. जब भी अख़बार खोलो, कोई न कोई देश कहीं न कहीं क्रिकेट खेल रहा होता है. हर दिन कोई न कोई खिलाड़ी कोई पुराना रिकॉर्ड तोड़ देता है

बावजूद इसके कुछ रिकॉर्ड ऐसे हैं, जिन्हें तोड़ना अब असंभव कहा जा सकता है, जो हिमालय की तरह अटल हो चुके हैं.

1. Sir Don Bradman का 99.94 का एवरेज

Source: Essentially Sports

52 टेस्ट मैच खेल कर 6,996 रन बनाने वाले ऑस्ट्रेलियाइ लेजेंड सर डॉन ब्रेडमैन का ये रिकॉर्ड तोड़ने के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता. लगभग सौ रनों का एवरेज किसी चमत्कार से कम नहीं है. 15 से ऊपर टेस्ट मैच खेलने वाले किसी भी खिलाड़ी का एवरेज 70 के ऊपर भी नहीं है.

2. मुथैया मुरलीधरन के 800 विकेट

Source: CricketCountry

वर्तमान समय में डेल स्टेन अकेले ऐसे गेंद,बाज़ हैं जिन्होंने 400 से ज़्यादा विकेट लिए हैं. वो मुरलीधरन के रिकॉर्ड के लगभग आधे के पास और करियर के अंतिम पड़ाव पर खड़े हैं. जिस तरह से क्रिकेट बल्लेबाज़ों की ओर झुकता जा रहा है, आगे भी किसी गेंदबाज़ के द्वारा 800 विकेट के आंकड़े को छू पाना नामुमकिन लग रहा है.

3. Jim Laker का 1 मैच में 19 विकेट

Source: CricketCountry

आजकल गेंदबाज़ 5 विकेट ले लेता है तो याद के तौर पर गेंद को अपने पास रख लेता है. ऐसे में Jim Laker को कितनी गेंदें अपने पास रखनी चाहिए थी. 1954 में खेले गए एक टेस्ट मैच में Jim Laker पहली पारी में दस विकेट चटकाने से चूक गए और अगली ही पारी में वो कसर भी पूरी हो गई.

4. Wilfred Rhodes के 4204 विकेट

Source: Wikimedia

फ़र्स्ट क्लास क्रिकेट में Wilfred Rhodes के इस रिकॉर्ड को सिर उठा कर देखना पड़ता है. पहाड़ जैसे इस रिकॉर्ड के साथ Wilfred के नाम कुछ और असंभवनुमा रिकॉर्ड दर्ज हैं. उन्होंने अपने फ़र्स्ट क्लास क्रिकेट करियर में लगभग चालिस हज़ार रन बनाए हैं और हज़ार से ऊपर मैच खेले हैं.

5. ब्रायन लारा के 400 रन

Source: India Today

सब ये महसूस कर रहे हैं कि टेस्ट क्रिकेट अपने ख़ात्मे की ओर है. ऐसे में कोई बल्लेबाज़ मैच को जीतने की चाहत को छोड़ कर तीन दिनों तक बैटिंग करने की सोचने की हिम्मत भी नहीं कर सकता. ब्रायन लारा ने ये 400 रन नाबाद बनाए थे.

6. WG Grace उम्रदराज़ टेस्ट कप्तान

Source: Magnolia Box

आज अंतरराष्ट्रिय क्रिकेट में कुछ खिलाड़ी 40 साल के बाद भी खिलाड़ी के रूप में सक्रिय रहते हैं. सोचिए इंग्लैंड के WG Grace 50 पार करने के बाद भी टीम की कप्तानी कर रहे थे. उन्होंने अपना आखिरी मैच ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ साल 1899 में खेला था तब उनकी उम्र उम्र 50 साल 320 दिन थी.

7. Reginald 'Tip' Foster का डैब्यु मैच में टेस्ट का सर्वोच्च स्कोर

Source: Down At Third Man

1903 में ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड के बीच मैच चल रहा था, ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 285 रन बनाएं. इंग्लैंड ने 73 रन के योग पर अपने 3 बल्लेबाज़ गवां दिए. Foster का डैब्यु मैच था और वो आखिरी तक टिके रहे. उन्होंने 287 रनों की पारी खेली. वो तब सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर था. आज भी Foster के नाम डेब्यु मैच का सर्रोवच्च स्कोर कायम है.