पाकिस्तान में इन दिनों क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए 'पाकिस्तान कप' खेला जा रहा है. 3 अप्रैल को रावलपिंडी में 'ख़ैबर पख़्तूनख़्वा' और 'फ़ेडरल एरियाज़' के बीच एक कड़ा मुक़ाबला खेला गया, जिसमें जीत 'ख़ैबर पख़्तूनख़्वा' की हुई.

Source: indiatimes

ये तो रही जीत की बात, अब बात करते हैं मैच के उस मज़ेदार वाक़ये की जिसे देखकर आप भी हंसते-हंसते लोटपोट हो जाएंगे.

दरअसल, 'ख़ैबर पख़्तूनख़्वा' को जीत के लिए आख़िरी ओवर की 4 गेंदों में 3 रन चाहिए थे. तीसरी गेंद पर जैसे ही बल्लेबाज़ ने शॉट मारा गेंद सीधे बाउंड्री के पास खड़े फ़ील्डर अहमद शहज़ाद के हाथों में जा पहुंची, लेकिन वो इस कैच को पकड़ नहीं पाए और गेंद ज़मीन पर गिर गई.

इधर गेंदबाज़ को लगा कि शहज़ाद ने कैच पकड़ लिया है इसलिए वो जश्न मनाने लगा. उधर गेंदबाज़ की ख़ुशी देख अहमद शहज़ाद की नौटंकी शुरू हो गयी. शहज़ाद ने तब सारी हदें पार कर दी जब कैच छोड़ने के बावजूद वो रिव्यू के लिए इशारा करने लगे कि ये कैच पकड़ा गया है कि नहीं.

Source: ndtv.com

हम तो ये सोचकर हैरान हैं कि आख़िर पाकिस्तानी खिलाड़ियों में इतना ग़ज़ब का कॉन्फ़िडेंस आता कहां से है? गेंद ज़मीन पर गिर गई फिर भी जनाब रिव्यू के लिए इशारा कर रहे हैं.

अगर क्रिकेट में एक्टिंग के लिए 'ऑस्कर' दिया जाता तो अहमद शहज़ाद इसके पहले और आख़िरी दावेदार होते.

सच कहूं तो पाकिस्तानी खिलाड़ी मैदान में ये सोचकर उतरते हैं जैसे उन्हें कोई देख ही नहीं रहा है, कैमरे भी नहीं.

अहमद शहज़ाद इससे पहले भी श्रीलंका के ख़िलाफ़ कैच छोड़ने के बाद कुछ इसी तरह की हरकत कर चुके हैं.

अहमद शहज़ाद क्रिकेट में राखी सावंत से कम नहीं हैं, यकीन ना हो तो ये देख लीजिए.