रविवार रात इंग्लैंड के लॉर्ड्स मैदान पर वर्ल्ड कप इतिहास का सबसे रोमांचक मुक़ाबला खेला गया. जीत कभी इंग्लैंड तो कभी न्यूज़ीलैंड के पक्ष में जाती देख फ़ैंस की धड़कनें तेज़ हो रही थी. मैच इतना रोमांचक हो गया कि ये सुपर ओवर तक जा पहुंचा. हद तो तब हो गई जब नाटकीय अंदाज़ में सुपर ओवर भी टाई रहा.

Source: dnaindia

धड़कनें तेज़ कर देने वाले इस मुक़ाबले का टर्निंग पॉइंट था मैच के 50वें ओवर में मार्टिन गप्टिल का वो थ्रो, जिसने पूरे मैच की कहानी बदलकर रख दी.

Source: bhaskar

इंग्लैंड को अंतिम 3 गेंदों पर जीत के लिए 9 रनों की दरकार थी. इसके बाद अगली गेंद पर स्टोक्स ने जोरदार शॉट लगाया और दो रन के लिए दौड़ पड़े. दूसरा रन लेते वक्त मार्टिन गप्टिल ने रन आउट करने के लिए थ्रो किया और स्टोक्स ने क्रीज़ में पहुंचने के लिए छलांग लगाई. इसी दौरान गेंद उनके हाथ पर लगकर बाउंड्री के पार चली गई.

अब इस मामले में बेन स्टोक्स ने न्यूज़ीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन से माफ़ी मांगी है:

न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च में पैदा हुए स्टोक्स ने कहा 'मैच बेहद रोमांचक था, इसे मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता. अफ़सोस कि आख़िरी ओवर में गेंद मेरे बैट से लगकर चौके के लिए चली गई. इसके बाद मैंने विलियम्सन से इसके लिए माफ़ी भी मांगी थी, क्योंकि वो सब मैंने जानबूझकर नहीं किया था. इसके लिए मैं ज़िंदगी भर मांगी मांगता रहूंगा'.

हालांकि, मैच के बाद न्यूज़ीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने दुःख जताते हुए कहा, 'मैच के उस मोड़ पर इस तरह से अतिरिक्त रन जाने से मैं बेहद दुखी हूं. मैं चाहता हूं कि किसी भी अहम मुक़ाबले में फिर ऐसा न हो'.

Source: dnaindia

सेमीफ़ाइनल में भारत के ख़िलाफ़ शानदार जीत और फ़ाइनल में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ रोमांचक मुक़ाबले को लेकर क्रिकेट फ़ैंस कैप्टन केन की जमकर तारीफ़ कर रहे हैं. इतने कम टोटल के बावजूद कैप्टन केन ने अपनी शानदार कप्तानी से भारत और इंग्लैंड जैसी मज़बूत टीमों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था.

Source: indiatoday

केन विलियम्सन को 578 रन बनाने और शानदार कप्तानी के लिए 'प्लेयर ऑफ़ द टूर्नामेंट' का ख़िताब दिया गया.