देश का दक्षिणी हिस्सा इन दिनों बाढ़ के कहर से जूझ रहा है. कर्नाटक में पिछले 15 दिनों से भारी बारिश हो रही है. राज्य के 12 ज़िले बाढ़ से प्रभावित हैं. ऐसे में लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है.

Source: punjabkesari

ऐसे में कुछ ऐसे जुनूनी लोग भी होते हैं जो अपने सपने के लिए कुछ भी कर गुजरने का जुनून रखते हैं. ऐसे एक शख्स हैं 19 वर्षीय निशान मनोहर कदम. निशान बॉक्सर हैं.

कर्नाटक के बेलगावी ज़िले के निशान मनोहर कदम इन दिनों एक बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने के लिए 2.5 km तक तैरने की वजह से सुखियों में हैं.

Source: punjabkesari

दरअसल, 19 साल के निशान को बेंगलुरु में होने वाली एक बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में हिस्सा लेना था. बाढ़ के कारण घर के बाहर हालात बेहद ख़राब थे. ऐसे में निशान अपनी बॉक्सिंग किट पॉलिथिन में पैक कर पिता के साथ बाढ़ के पानी में करीब 45 मिनट तक 2.5 km तैरकर ज़िला बॉक्सिंग टीम तक पहुंचा. इसके बाद निशान ने रविवार को बेंगलुरु में राज्य स्तरीय चैम्पियनशिप के दौरान सिल्वर मेडल अपने नाम किया.

Source: punjabkesari

12वीं का छात्र है निशान

निशान बेलगावी के ज्‍योति पीयू कॉलेज में 12वीं का छात्र है. निशान ने दो साल पहले ही अर्जुन पुरस्‍कार विजेता कैप्‍टन मुकुंद किलेकर से ट्रेनिंग लेनी शुरू की है. बारिश और बाढ़ के कारण निशान पिछले कई दिनों से ट्रेनिंग भी नहीं कर पाया था.

जीत के बाद निशान ने बताया कि 'मैं किसी भी हालत में टीम तक पहुंचना चाहता था. इस दौरान मेरे पिता ने मेरा हौसला बढ़ाया और फिर हम तैरकर अपनी टीम तक पहुंचे. बस मलाल इस बात का है कि मैं गोल्ड हासिल नहीं कर सका. शायद उस दिन मेरा लक मेरे साथ नहीं था, लेकिन उम्मीद करता हूं कि अगली बार गोल्ड ज़रूर जीतूंगा'.

Source: satyodaya

बॉक्सिंग टीम के मैनेजर गजेंद्र एस त्रिपाठी के मुताबिक, सबसे अच्छी बात ये रही कि तमाम मुश्किलों के बावजूद निशान इवेंट में शामिल हो पाया. उस दिन निशान और उनके पिता ने अपने घर से शाम को 3 बजकर 45 मिनट पर तैरना शुरू किया था, इसके बाद वो साढ़े चार बजे के करीब मुख़्य मार्ग तक पहुंचे. जहां पर टीम उसका इंतज़ार कर रही थी. इसके बाद सभी खिलाड़ियों ने बेंगलुरु के लिए रात में ट्रेन पकड़ी.

निशान की इस जीत और उसकी हिम्मत ने बॉक्सिंग चैम्पियनशिप को स्पेशल बना दिया.