कभी वो अपने गांव के लड़कों के साथ फ़ुटबॉल की प्रैक्टिस किया करती थीं, क्योंकि उनके पास कोई विकल्प ही नहीं था. गांव वाले लड़कियों को ये खेल खेलने ही नहीं देते थे. पर उन्होंने कभी इस बात का मलाल नहीं किया. वो मेहनत करती गईं और पहले मणिपुर, फिर भारतीय टीम में जगह बनाने में कामयाब हुई.

बात हो रही है इंडियन टीम के लिए सबसे अधिक गोल करने वाली महिला फ़ुटबॉलर बाला देवी की. इन दिनों वो देश ही नहीं विदेशों में भी सुर्खियों बटोर रहीं हैं. बात ही कुछ ऐसी है. बाला देवी किसी इंटरनेशनल फ़ुटबॉल क्लब के लिए चुनी जाने वाली पहली भारतीय महिला फ़ुटबॉलर जो बन गई हैं.

Source: footballcounter

इंडियन फ़ुटबॉल टीम में फ़ॉरवर्ड (खेल की पोजीशन) बाला देवी को स्कॉटलैंड के क्लब Rangers FC के साथ 18 महीने तक खेलने का करार किया है. ऐसा करने वाली वो देश की पहली महिला फ़ुटबॉलर बन गई हैं.

इस बारे में बात करते हुए बाला देवी ने कहा- ‘मैं इस क्लब के साथ 18 महीने का करार करने और उनके लिए खेलने को लेकर बहुत उत्साहित हूं. मैं उनके लिए नंबर 10 की जर्सी में खेलूंगी, इंडियन टीम में भी मेरी जर्सी का नंबर यही है. ये वो बात है जो इस ख़ुशी को दोगुना कर देती है.’

बाला देवी का कहना है कि उनकी इस उपलब्धि के बाद भारतीय महिला फ़ुटबॉलर्स के लिए आगे के रास्ते खुल जाएंगे. इससे यंग प्लेयर्स को भी बड़े सपने देखने की प्रेरणा मिलेगी. उन्हें भी लगेगा कि अगर वो भी कुछ कर गुज़रने का सपना देखेंगे तो एक दिन ये सच भी होगा.

बाला देवी मौजूदा दौर में भारतीय महिला फ़ुटबॉल टीम के लिए सबसे अधिक गोल करने वाली खिलाड़ी हैं. 15 साल की उम्र में इंडियन टीम में जगह बनाने वाली बाला देवी ने तब से लेकर अब तक 58 मैच खेले हैं, जिनमें इन्होंने 52 गोल किए हैं. इसके अलावा वो दक्षिण एशियाई क्षेत्र में सबसे अधिक इंटरनेशनल गोल करने वाली महिला फ़ुटबॉलर भी हैं.

Source: zeenews

घरेलू फ़ुटबॉल में भी बाला देवी ने कई रिकॉर्ड बनाए हैं. उन्होंने 120 घरेलू मैचों में 100 से अधिक गोल किए हैं. बाला को 2015 और 2016 में All India Football Federation (AIFF) द्वारा वूमेंस प्लेयर ऑफ़ द ईयर के अवॉर्ड से नवाजा था.

Source: bhaskar

बाला देवी आपको इस क्लब के लिए सेलेक्ट किए जाने के लिए बहुत-बहुत बधाई. उम्मीद है आप वहां भी नए-नए कीर्तिमान बना कर देश का नाम रौशन करेंगी.

Sports से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.