भारतीय टीम को वर्ल्ड कप से बाहर हुए 3 दिन बीत चुके हैं. लेकिन ये दुःख जाने का नाम ही नहीं ले रहा. दिमाग में अब भी हर वक़्त सेमीफ़ाइनल का वही मैच घूम रहा है.

Source: bcci.tv

यकीन ही नहीं हो रहा है कि टीम इंडिया वर्ल्ड कप से बाहर हो गई है. कहां तो हम वर्ल्ड कप के सपने संजोए बैठे थे, लेकिन धोनी के उस रन आउट ने हमारी उम्मीदों पर पानी ही फेर दिया. शानदार खेल के बावजूद टीम इंडिया लगातार दूसरी बार फ़ाइनल से एक कदम पहले ही फिसल गई.

मीडिया से लेकर सोशल मीडिया पर अब भी धोनी के रन आउट और उनके रिटायरमेंट की ही ख़बरें ही चल रही हैं. महेंद्र सिंह धोनी जादू ही कुछ ऐसा है कि लोग उनके लिए बेहद भावुक हो जाते हैं.

धोनी के लिए लोगों का भावुक होना बनता भी है. क्योंकि इस शख़्स ने हम भारतीयों को वो ख़ुशियां दी हैं जो इससे पहले कोई और नहीं दे पाया. सच कहूं तो फ़ैन्स के दिलों में जो इज्ज़त धोनी के लिए है वो किसी और के लिए नहीं.

Source: cricket.com

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने जब इंग्लैंड के ख़िलाफ़ ख़राब रन रेट के लिए धोनी को निशाना बनाया था तो फ़ैन्स उल्टा सचिन पर ही बरस पड़े थे. धोनी की बुराई पर जब फ़ैन्स सचिन को भी न बख्शें तो समझ आता है कि इस शख़्स का क्रिकेट में क्या ओहदा है.

Source: indiatoday

धोनी के रिटायरमेंट की अटकलों को लेकर फ़ैन्स फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और हेलो जैसे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर 'No Retirement' कैंपेन चला रहे हैं. क्रिकेट इतिहास में शायद ही किसी खिलाड़ी के लिए इस तरह के कैंपेन चलाये गए हैं.

पिछले तीन दिनों में फ़ैन्स धोनी के लिए न जाने क्या क्या कर चुके हैं. फ़ैन्स सेमीफ़ाइनल की एक तरवीर को शेयर करते हुए कह रहे हैं कि जिस गेंद पर धोनी रन आउट हुए उस दौरान 6 फ़ील्डर 30 यार्ड सर्कल के बाहर थे.

माही आपने भारतीय क्रिकेट को बहुत कुछ दिया है. हिन्दुतान के करोड़ों युवाओं को क्रिकेट डेडिकेशन के साथ खेलना सिखाया है. इस खेल की रेस्पेक्ट करना सिखाया है. माही आपने शांत रहकर भी मैच जिताना सिखाया है.

अंत में बस इतना ही कहूंगा, आप बस देश के लिए यूं ही खेलते रहें. रिटायरमेंट के बाद भी इस खेल से यूं ही प्यार करते रहें.