हम भारत के हॉकी के स्वर्णिम काल को याद करते हैं, जब भारतीय टीम ऑलंपिक में विपक्षी खेमे को एकतरफ़ा हराया करती थी. वैसा ही हाल अभ कबड्डी का है, भारतीय टीम एकतरफ़ा विश्वविजेता बनती है. अब तक तीन बार कबड्डी का वर्ल्ड कप हो चुका है, तीनों बार भारतीय टीम विजेता बनी है.

Source: Pexels

देश के अलग-अलग कोने में इसे अलग-अलग नाम से जाना जाता है, कहीं हू तू तू, हा दु दु, छेदु-गुदु आदि. भारत के गांव-गांव में खेला जाने यह खेल मिट्टी से होते हुए हमारे रगों में रमा हुआ है. इसकी इतिहास के शुरुआत भी भारतीय मिट्टी से होती है, एक दावा इरान से भी आता है.

चक्रव्यूह और कबड्डी

Source: wikimedia

कुछ लोग महाकाव्य महाभारत की एक कहानी को कबड्डी के शुरुआत का आधार मानते हैं. अर्जुन पुत्र अभिमन्यु चक्रव्यूह को भेदता हुआ उसके भीतर तो चला गया लेकिन उसे चक्रव्यूह से बाहर निकलने का ज्ञान नहीं था. चक्रव्यूह में कुल सात दरवाज़े होते हैं, कबड्डी में भी कुल सात खिलाड़ी होते, जिन्हें छका कर सुरक्षित अपने पाले में आना होता है. इस कहानी को मानने वालों का कहना है कि अभिमन्यु की याद में ही इस खेल की शुरुआत हुई थी.

कबड्डी की अन्य कहानियां

Source: DNA

बौद्ध कहानियों के अनुसार कबड्डी की शुरुआत भगवान बुद्ध ने की थी, बहलाव के लिए वो कबड्डी खेलना पसंद करते थे. यह खेल उनकी याद में ही खेला जाता था.

तमिल भाषा में शब्द है 'kai-pidi', कहते हैं कबड्डी का नामकरण यहीं से हुआ और एक कहानी तमिलनाडु से भी निकलती है, जो बड़ी साधारण सी है. एक बच्चा अपने दोस्त के हाथ से मिठाई छीन कर भाग गया था, दूसरा बच्चा भाग कर उसे पकड़ लेता है और अपनी मिठाई वापस से छीन लेता है.

इरान का दावा

प्रो कबड्डी लीग में खेलने वाले ईरान के खिलाड़ी मेराज शेख ने मीडिया को बयान दिया था कि जहां उनका जन्म हुआ वो ज़िला सिस्तान है. उनका दावा है कि सिस्तान में इस खेल का जन्म लगभग 5000 साल पहले हुआ था. ESPN से बातचीत में उन्होंने कहा था कि ईरान इस खेल की असल जन्मभूमि है. वो बताते हैं कि इसका जिक्र कई पुरानी किताबों में भी किया गया है.

मॉर्डन कबड्डी

Source: India Times

कबड्डी का हालिया इतिहास 1930 से शुरू होता है, पहली बार कबड्डी नियमबद्ध तरीके से साल 1921 में खेला गया था. भारत में कबड्डी के लिए पहली समिति साल 1923 में बनाई गई थी. 1923 में 1921 के संशोधित नियमों के साथ All India Kabaddi Tournament कराया गया था.

इस खेल को लेकर अपने-अपने दावे हैं, वास्तविकता जो भी है, यह खेल है हज़ारों साल पुराना. बावजूद इसके अभी भी खेला जा रहा है और फैलता जा रहा है.