भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच रांची में सीरीज़ का तीसरा मैच खेला जा रहा है. टॉस जीतकर भारत ने ऑस्ट्रेलिया को बल्लेबाज़ी का मौका दिया. ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों ने भारत के इस फ़ैसले को ग़लत साबित करते हुए पहले विकेट के लिए 193 रन की साझेदारी कर डाली.

Source: scroll.in

ये मैच महेंद्र सिंह धोनी के होम ग्राउंड रांची में खेला जा रहा है ज़ाहिर सी बात है उनके फ़ैंस को अपने माही से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद भी होगी. धोनी के फ़ैंस इसी इंतज़ार में बैठे हैं कि वो कब बल्लेबाज़ी करने उतरेंगे.

मैच चाहे कैसा भी क्यों न हो? भारतीय टीम बैटिंग करे या फ़ील्डिंग, मैदान पर धोनी का जलवा देखने को मिल ही जाता है. सच कहूं तो मुझे धोनी बैटिंग से ज़्यादा विकेट के पीछे अच्छे लगते हैं.

पिछले मैच की तरह आज भी मैदान पर कुछ ऐसा ही नज़ारा देखने को मिला. पिछली बार कुलदीप और धोनी ने मैक्सवेल का बैंड बजाया था, तो इस बार जडेजा और धोनी की जुगलबंदी ने एक बार फिर से मैक्सवेल का खेल ख़त्म किया.

हुआ यूं कि ऑस्ट्रेलिया 41.5 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर 258 रन बना चुका था. भारतीय टीम एक अदद विकेट की तलाश में थी. कुलदीप यादव अपने 9वें ओवर की आख़िरी गेंद लेकर तैयार थे और सामने बल्लेबाज़ थे ग्लेन मैक्सवेल. मैक्सवेल जैसे ही एक रन के लिए भागे करेंटमैन जडेजा ने बिजली सी फ़ुर्ती दिखाते हुए गेंद धोनी की ओर फ़ेंक दी. इससे पहले मैक्सवेल कुछ समझ पाते धोनी ने बड़ी चालाकी से गेंद स्टंप पर मार दी.

ऑस्ट्रेलिया ने 50 ओवरों में 5 विकेट खोकर 313 रन बनाये. भारत के सामने जीत के लिए 314 रन का टारगेट है.