महेंद्र सिंह धोनी की तत्परता एक बार फिर चर्चा में आ गयी जब उन्होंने भारत बनाम न्यूज़ीलैंड के पांचवे ODI में जेम्स नीशाम को रन आउट किया. बीते रविवार को वेलिंगटन में खेले गए इस मैच में भारत ने 35 रनों से जीत दर्ज की और पांच मैचों की इस सीरीज़ को 4-1 से जीत लिया.

Source: indiatoday

अपनी चोट की वजह से धोनी न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ तीसरे और चौथे ओडीआई में नहीं खेल पाए थे. मगर चोट से उबरने के बाद पांचवे मैच में वो स्टंप के पीछे अपने चिर-परिचित अंदाज़ में नज़र आए. उन्होंने फ़ील्डिंग पोजीशन सेट करने में रोहित शर्मा की मदद भी की और गेंदबाज़ों का मार्गदर्शन भी किया.

Source: indianexpress

न्यूज़ीलैंड की पारी के 37वें ओवर में महेंद्र सिंह धोनी की तत्परता देखने लायक थी, जब उन्होंने जेम्स नीशाम को रन आउट किया.

केदार जाधव की गेंद को नीशाम मिस कर गए और गेंद सीधे उनके पैड से जा टकराई. सभी LBW आउट के लिए अपील करने लगे मगर अंपायर ने अपील ठुकरा दी. इसी बीच नीशाम की नज़रे गेंद से हट चुकी थीं और वो रन चुराने की कोशिश में क्रीज़ से बाहर निकल पड़े. धोनी ने चतुराई दिखाते हुए फुर्ती से गेंद उठाई और गिल्लियां बिखेर दीं और रन आउट की अपील कर दी. बाद में थर्ड अंपायर ने नीशाम को रन आउट करार दे दिया.

Source: yahoo

नीशाम उस वक़्त 44 रन बना चुके थे और न्यूज़ीलैंड को जीत के लिए 83 गेंदों में 77 रनों की ज़रूरत थी. जबकि न्यूज़ीलैंड के चार विकेट बचे हुए थे. नीशाम का विकेट गिरते ही न्यूज़ीलैंड की टीम ताश के पत्तों की तरह बिखर गयी.

आईसीसी ने महेंद्र सिंह धोनी की सूझ-भूझ की प्रशंसा अनोखे अंदाज़ में की. दरअसल,1 फरवरी को जापानी मल्टीमीडिया आर्टिस्ट योको ओनो ने ट्वीट कर ऐसी सलाह मांगी जिससे उनका जीवन सुरक्षित और ख़ुशनुमा बना रहे.

इस ट्ववीट पर उन्हें 2000 से ज्यादा ज़वाब मिले मगर सबसे मज़ेदार जवाब था आईसीसी का.

आईसीसी ने जवाब देते हुए लिखा कि, 'कभी भी अपनी क्रीज़ न छोड़े, जब धोनी स्टंप के पीछे खड़े हों.'

आईसीसी के इस ट्वीट को क्रिकेट प्रेमी ख़ूब पसंद कर रहे हैं.

बहरहाल, भारत ने पांच वन डे मैचों की सीरीज़ 4-1 से अपने नाम कर ली है. 2017 के आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के बाद से ये भारत की नौवीं द्विपक्षीय वनडे सीरीज़ में जीत है. भारत और न्यूज़ीलैंड अब 6 फ़रवरी से तीन T-20 मैचों की श्रृंखला खेलेंगे.