हम भारतीयों का क्रिकेट से वही रिश्ता जो ‘चाय का पारले G’ से है. क्रिकेट हमारी रगों में खून की तरह बहता है. गली-मोहल्लों से लेकर मैदान तक आपको क्रिकेट के जानकार मिल जायेंगे. आप ज़रा इसी बात से अंदाज़ा लगाइये कि विराट को कब और किस बॉल पर कैसा शॉट खेलना चाहिए था उसकी थ्योरी भी गली क्रिकेट के एक्सपर्ट के पास होती है. 

अब जब हम क्रिकेट के बारे में इतना ही जानते हैं तो चलिए आज ये भी जान लेते हैं कि हमारे और आपके फ़ेवरेट क्रिकेटरों को मैदान पर जो ‘निक नेम’ दिए गए हैं ये आख़िर किसकी देन हैं? 

1- सुनील गावस्कर (लिटिल मास्टर)

सुनील गावस्कर अपनी कम हाइट के बावजूद दुनिया के हर ख़तरनाक और लंबे बॉलर की हवा निकाल देते थे. टेस्ट क्रिकेट में 10 हज़ार रन बनाने वाले पहले क्रिकेटर बनने के बाद उन्हें ‘लिटिल मास्टर’ कहा कहा जाने लगा था.

sportskeeda

2- वसीम अक़रम (सुल्तान ऑफ़ स्विंग) 

अगर आज भी दुनिया के बेस्ट स्विंग बॉलर का ज़िक्र हो तो वसीम अक़रम का नाम सबसे ऊपर होगा. वसीम अक़रम की इसी कला के कारण क्रिकेट एक्सपर्ट उन्हें ‘सुल्तान ऑफ़ स्विंग’ भी कहा करते थे.

3- कपिल देव (द हरियाणा हरिकेन)

पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव को ये नाम उनके राज्य हरियाणा की वजह से दिया गया था. कपिल देव जब मैदान पर होते थे, तो तूफ़ानी अंदाज़ में गेंदबाज़ी किया करते थे. इसी कारण उनको ‘द हरियाणा हरिकेन’ निकनेम दिया गया.

indiatimes

4- एबी डी विलियर्स (मिस्टर 360 डिग्री)

एबी डी विलियर्स के पास मैदान के चारों ओर शॉट खेलने की कला थी. विलियर्स की इसी क़ाबिलियत के चलते क्रिकेट एक्सपर्ट उन्हें ‘मिस्टर 360 डिग्री’ कहा करते थे.  

sportskeeda

5- सचिन तेंदुलकर (मास्टर ब्लास्टर)

सचिन को ‘मास्टर ब्लास्टर’ नाम उनके करियर की शुरुआत में ही मिल गया था. जब सचिन ने साल 1994 में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ ऑकलैंड में पहली बार ओपनिंग करते हुए 49 गेंदों पर ताबड़तोड़ 82 रन बनाये थे. 

tilomitra

6- सौरव गांगुली (गॉड ऑफ़ ऑफ़साइड)

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली को प्रिंस ऑफ़ कोलकाता के साथ ही ‘गॉड ऑफ़ ऑफ़साइड’ भी कहा जाता था. क्रिकेट के दिग्गज़ आज भी गांगुली को ऑफ़साइड का सबसे बेहतरीन बल्लेबाज़ मानते हैं.

sportswallah

7- शोएब अख़्तर (रावलपिंडी एक्सप्रेस)

शोएब अख़्तर पाकिस्तान के रावलपिंडी शहर से हैं. लंबे रन-अप और तेज़ गेंदबाज़ी के कारण शोएब को ‘रावलपिंडी एक्सप्रेस’ नाम दिया गया था. शोएब को सबसे पहले ये नाम पूर्व कमेंटेटर टोनी ग्रेग ने दिया था.

8- महेंद्र सिंह धोनी (कैप्टन कूल)

पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को ये नाम रवि शास्त्री ने मैदान पर हर Situation में शांत रहकर टीम को जीत दिलाने के कारण दिया था. हार हो या जीत धोनी का रिएक्शन एक जैसा होता था. धोनी न कभी दबाव में आते थे, न ही किसी पर ग़ुस्सा होते थे.

gulfnews

9- राहुल द्रविड़ (द वॉल)

पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ को आज भी मैदान पर उनकी गज़ब एकाग्रता के लिए जाना जाता है. द्रविड़ जब विकेट पर टिक जाते थे तो फिर गेंदबाज़ों के लिए उनका विकेट चटकाना किसी सपने के पूरा होने जैसा होता था. इसलिए उन्हें ‘द वॉल’ कहा जाता था.

twitter

10- हर्शेल गिब्स (स्कूटर)

हर्शेल गिब्स को उनकी ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी और स्कूटर की तरह ज़बरदस्त माइलेज़ के कारण उनके साथी ‘स्कूटर’ कहा करते थे.

zimbio

11- विराट कोहली (किंग कोहली)

विराट को ये नाम उनकी लाजवाब बल्लेबाज़ी की वजह से मिला है. हर साल ICC रैंकिंग में टॉप पर रहने और भारत को लगातार जीत दिलाने के कारण कोहली को ‘किंग कोहली’ कहा जाता है.  

crictracker

12- अनिल कुंबले (जम्बो)

अनिल कुंबले को जम्बो नाम नवजोत सिंह सिद्धू ने दिया था. ईरानी ट्रॉफ़ी के एक मैच के दौरान सिद्धू मिड ऑन पर खड़े होकर फ़ील्डिंग कर रहे थे. इसी दौरान कुंबले ने अपनी उछाल भरी गेंदों से विपक्षी टीम के बल्लेबाज़ों की हवा टाइट कर दी थी. जिसे देखकर सिद्धू ने उन्हें ‘जंबो जेट’ कह दिया था.

13- लसिथ मलिंगा (मलिंगा द स्लिंगा)

दुनिया के सबसे ख़तरनाक यॉर्कर गेंदबाज़ मलिंगा को ‘मलिंगा द स्लिंगा’ नाम उनके स्लिंगिंग एक्शन की वजह से मिला है.

circleofcricket

14- ग्लेन मैक्सवेल (बिग शो)

ऑस्ट्रेलियन ऑलराउंडर मैक्सवेल को ये नाम उनके लंबे-लंबे छक्कों की वजह से मिला है. मैक्सवेल बड़े मैचों में क़माल की बल्लेबाज़ी करते हैं. इसलिए भी उनके साथी उन्हें ‘बिग शो’ कहते हैं.

battingwithbimal

15- रिकी पोंटिंग (पंटर)

पोंटिंग को ये नाम सबसे पहले 1990 में शेन वॉर्न ने दिया था. ये दोनों जब क्रिकेट अकेडमी में साथ रहते थे, उस दौरान इन्हें 40 डॉलर मिलते थे. इन पैसों से पोंटिंग कुत्तों पर दांव लगाया करते थे. जिस कारण शेन वॉर्न ने उन्हें ‘पंटर’ नाम दिया.

thecricketmonthly

16- हरभजन सिंह (टर्बनेटर)

अपनी ज़बरदस्त स्पिन गेंदबाज़ी और अग्रेशन के लिए मशहूर हरभजन को ‘टर्बनेटर’ नाम उनकी टर्बन के वजह से मिला था. भज्जी को ये नाम कमेंट्री के दौरान नवजोत सिंह सिद्धू ने दिया था.

mid-day

17- शाहिद अफ़रीदी (बूम बूम अफ़रीदी) 

पाकिस्तान के स्टार क्रिकेटर शाहिद आफ़रीदी को ‘बूम बूम’ नाम कमेंट्री के दौरान रवि शास्त्री ने उनके लंबे-लंबे छक्कों की वजह से दिया था.

इन सभी दिग्गज़ क्रिकेटरों में से आपका फ़ेवरेट क्रिकेटर कौन था?