पाकिस्तान इन दिनों कोरोना महामारी से बुरी तरह से जूझ रहा है. क़रीब 22 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान में 26 हज़ार लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. जबकि अब तक 594 लोगों की मौत हो चुकी है.

Source: indianexpress

इस बीच पाकिस्तान के टेस्ट कप्तान अज़हर अली ने कोरोना मरीज़ों की मदद के लिए अपने ऐतिहासिक बल्ले और बेहद ख़ास जर्सी को नीलाम किया है. इस नीलामी से अज़हर को 22 लाख रुपये मिले हैं.

Source: indianexpress

पुणे स्थित दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट म्यूज़ियम 'ब्लेड्स ऑफ़ ग्लोरी क्रिकेट म्यूजियम' ने नीलामी में रखे अज़हर के इस ख़ास बल्ले को 10 लाख रुपये में ख़रीदा है. जबकि 'चैम्पियंस ट्रॉफ़ी' फ़ाइनल में पहनी गई जर्सी को कैलिफ़ोर्निया में रहने वाले पाकिस्तानी मूल के काश विलानी ने 11 लाख रुपये में ख़रीदी है.

Source: crictracker

क्यों ख़ास है अज़हर का ये बल्ला?

अज़हर ने इसी बल्ले से साल 2016 में वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ टेस्ट मैच में नाबाद 302 रनों की ऐतिहासिक पारी खेली थी. इस ड़े नाइट टेस्ट मैच में तिहरा शतक लगाने वाले अज़हर दुनिया के पहले बल्लेबाज़ बने थे. इस बल्ले पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम के सभी सदस्यों के हस्ताक्षर हैं.

इसके अलावा अज़हर ने साल 2017 'चैम्पियंस ट्रॉफ़ी' के फ़ाइनल में भारत के ख़िलाफ़ पहनी जर्सी को भी नीलामी किया है. इस जर्सी पर भी पाकिस्तान क्रिकेट टीम के सभी सदस्यों के हस्ताक्षर हैं.

Source: google

35 साल के अज़हर ने एक ट्वीट के ज़रिए नीलामी में रखे इस ख़ास बल्ले और जर्सी का आधार मूल्य 10 लाख रुपये रखा था. इनसे 22 लाख रुपये जुटाने में सफ़ल रहे.

इस दौरान अज़हर ने ट्वीट कर जानकारी दी कि 'नीलामी में रखे गए बल्ले को 10 लाख रुपये में 'ब्लेड्स ऑफ़ ग्लोरी क्रिकेट म्यूजियम' ने ख़रीदा, जबकि जर्सी को ख़रीदने में कई लोगों ने दिलचस्पी दिखाई, लेकिन कैलिफ़ोर्निया के रहने वाले काश विलानी ने सबसे बड़ी बोली लगाकर इसे 11 लाख रुपये में ख़रीद ली. इसके साथ ही न्यूजर्सी में रहने वाले एक अन्य पाकिस्तानी जमाल ख़ान ने 1 लाख रुपये का दान भी दिया.

इसके साथ ही न्यूजर्सी में रहने वाले एक अन्य पाकिस्तानी जमाल ख़ान ने 1 लाख रुपये का दान भी दिया.