वेल प्लेड टीम इंडिया !

भले ही आज हम हार गए लेकिन पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन के लिए आपका शुक्रिया. भारत ने इस वर्ल्ड कप में खेले 8 मुक़ाबलों में से 7 में जीतकर टॉप रैंक हासिल की थी, लेकिन बदकिस्मती से आज का अहम मुक़ाबला गंवा बैठे.

क्रिकेट के खेल में हार और जीत तो लगी ही रहती है. आज हम हारे हैं तो कल कोई और हारेगा. सच कहूं तो आज टीम इंडिया ने पल भर के लिए ही सही लेकिन करोड़ों फ़ैंस का दिल ख़ुश ज़रूर कर दिया. खासकर महेंद्र सिंह धोनी और रविंद्र जडेजा ने तो दिल ही जीत लिया.

जब आधी टीम पवेलियन लौट चुकी थी, तो 130 करोड़ भारतीयों को 38 साल के धोनी से ही उम्मीदें थी. धोनी ने उम्मीद से अच्छा खेला भी, लेकिन बदकिस्मती से आख़िरी क्षणों में रन आउट हो गए. वरना आज टीम इंडिया फ़ाइनल में होती.

माही हम आपके रन आउट होने से दुखी ज़रूर हैं, लेकिन आपने आज जो साहस दिखाया उसके लिए आपका शुक्रिया. शुक्रिया आपके 15 सालों की उस मेहनत को भी, जिसकी वजह से हम भारतीयों का सिर हर वक़्त गर्व से ऊंचा हुआ.

अब शायद ही हम आपको वर्ल्ड कप में कभी देख पाएंगे. बस दिल में यही टीस रह गई है कि हम आपको एक अच्छी विदाई नहीं दे पाए. आपके हाथों में वर्ल्ड कप की चमचमाती ट्रॉफ़ी नहीं दे पाए.

आपने हमें इतने साल जितनी भी खुशियां दी उसके लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया.