Tokyo Olympics 2020 में इस 33 स्पोर्ट्स और 46 डिसिप्लिन्स (Disciplines) खेले जा रहे हैं. हर नए ओलंपिक खेल के साथ ये स्पोर्ट्स बदले जाते हैं. कुछ नए जुड़ जाते हैं तो कुछ पुराने हट जाते हैं. बीते समय में ओलंपिक में ऐसे कई स्पोर्ट्स रह चुके हैं जिनका कोई मतलब नहीं बनता है. आइए डालते हैं ऐसे ही कुछ अजीब खेलों पर नज़र. 

1. Solo Synchronized Swimming 

Solo Synchronized Swimming
Source: wikimedia

1984 और 1992 के बीच ओलंपिक खेलों में सोलो सिंक्रोनाइज्ड स्विमिंग एक खेल था. यह स्विमिंग, डांसिंग, जिमनास्टिक्स का मेल था. इसमें एथलीट को स्विमिंग पूल में गाने के साथ पानी में डांस मूव्स करने होते थे. 2017 में इसमें कई बदलाव किए गए और अब इसे Artistic Swimming का नाम दे दिया गया. 

2. Plunge for Distance 

Olympic games
Source: gq

जैसा नाम वैसा काम. इस खेल में प्रतियोगी 20 या 30 मीटर की दूरी से लंबे कोट पहने हुए मानव-आकार के लक्ष्यों पर मोम की गोलियां दागते थे. यह खेल 1906 के ओलंपिक के दौरान खेला गया था.

3. Live Pigeon Shooting 

Live Pigeon Shooting
Source: gq

इस खेल को क्यों रखा गया होगा समझ नहीं आता है. यह खेल भी आज तक एक ही बार 1900 के  Summer Olympics में खेला गया था.बिलकुल खेल का उद्देश्य अधिक से अधिक कबूतरों को मारना था. लगातार दो चूक हो जाने के बाद प्रतियोगी खेल से बाहर हो जाता था. इस खेल को  Leon de Lunden ने जीता था. उन्होंने 21 कबूतरों को मारा था. खेल के अंत तक 300 कबूतर की जान चली गई थी.  

4. Running Deer Shooting 

Running Deer Shooting
Source: Pinterest

सबसे पहले तो ये शुक्र है कि इस खेल में किसी मासूम जीवित जानवर को नुकसान नहीं पहुंचा था. इस खेल में हिरण के आकार का लक्ष्य होता था जो 75 फ़ीट (22.86 मीटर) की 10 दौड़ लगता था. जिसमें शूटर प्रत्येक रन के दौरान दो शॉट दाग सकता था. यह 1908 से 1948 तक ओलंपिक का हिस्सा था. 

5. Dueling pistols 

Dueling pistols
Source: gq

जैसा नाम वैसा काम. इस खेल में प्रतियोगी 20 या 30 मीटर की दूरी से लंबे कोट पहने हुए मानव-आकार के लक्ष्यों पर मोम की गोलियां दागते थे. यह खेल 1906 के ओलंपिक्स के दौरान खेला गया था.  

6. Tug Of War 

Tokyo Olympics 2020
Source: dynamicmedia

रस्साकशी, ओलंपिक खेलों में 1900 से 1920 तक पांच बार खेला जा चुका है. यह बिलकुल आपके स्कूल के खेल जैसा है. टीमों में से प्रत्येक में आठ एथलीट शामिल थे, जिन्हें दोनों तरफ छह फ़ीट की दूरी के साथ दूसरे को खींचना था. 5 मिनट के समय में यदि कोई नहीं जीतता तो सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले के आधार पर विजेता टीम घोषित की जाती थी. 

ये भी पढ़ें: क्या स्वर्ण पदक सच में शुद्ध सोने का बना होता है? आख़िर क्या है Olympic Medals की असली क़ीमत?