भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे सफ़ल गेंदबाज़ों में से एक अनिल कुंबले को दुनिया की किसी भी पिच पर विकेट झटकने वाला गेंदबाज़ माना जाता है. वो भारत की ओर से सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ भी हैं. गेम को आख़िर तक हाथ से न जाने देने वाले कुंबले का जज़्बा मैदान पर देखने लायक होता था.

Source: espncricinfo

कुंबले की सबसे ख़ास बात ये थी कि वो अन्य स्पिन गेंदबाज़ों की तरह गेंदों को अधिक घुमाने में विश्वास नहीं रखते थे. बावजूद इसके वो मुरलीधारन और शेन वॉर्न से कुछ कम न थे. कुंबले कभी गुगली गेंद फेंकते, तो कभी मीडियम फ़ास्ट गेंदबाज़ी करने लगते थे. यही कारण था कि बल्लेबाज़ उनकी गेंदों को समझ ही नहीं पाते थे. करियर के शुरूआती दौर में कुंबले तेज़ गेंदबाज़ बनना चाहते थे लेकिन बन गए लेग ब्रेक स्पिनर.

आज हम आपको अनिल कुंबले के ऐसे ही 12 करिश्मों रू-ब-रू कराने जा रहे हैं जब उन्होंने भारत की जीत के लिए जी जान लगा दी थी-

1- साल 1999 दिल्ली में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ टेस्ट मैच की चौथी पारी में सभी 10 विकेट लेने वाले दुनिया के दूसरे गेंदबाज़ बने.

2- साल 2002 में अनिल कुंबले ने Antigua टेस्ट के दौरान वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ जबड़ा फ्रैक्चर होने के बावजूद गेंदबाज़ी की थी.

3- बांग्लादेश के खिलाड़ी मोहम्मद रफ़ीक को आउट कर कपिल देव के सर्वाधिक 434 विकेटों का रिकॉर्ड कुंबले ने ही तोडा.

Source: thewire

4- इंग्लैंड के बल्लेबाज़ ग्रांट जोंस को आउट कर अनिल कुंबले 500 विकेट लेने वाले पहले भारतीय गेंदबाज़ बने.

5- ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ एंड्रयू सायमंड्स को आउट कर 600 विकेट लेने वाले पहले भारतीय गेंदबाज़ बने.

6- अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में मुरलीधरन (1347), शेन वॉर्न (1001) के बाद कुंबले (956) विकेट लेने वाले तीसरे गेंदबाज़.

Source: livemint

7- टेस्ट क्रिकेट में शेन वॉर्न के बाद दूसरे ऐसे गेंदबाज़ जिनके नाम 2000 रन और 500 से अधिक टेस्ट विकेटों का रिकॉर्ड दर्ज़ है.

Source: indiatoday

8- वनडे क्रिकेट में किसी भी भारतीय गेंदबाज़ का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन (12 रन देकर 6 विकेट) कुंबले के नाम 21 सालों तक दर्ज रहा, जिसे स्टुअर्ट बिन्नी ने तोड़ा.

9- कोटला टेस्ट की एक पारी में 10 विकेट लेने के बाद उनके सम्मान में बेंगलुरू में एक सड़क का नाम 'अनिल कुंबले सर्किल' रखा गया.

Source: indianexpress

10- दुनिया के एकलौते ऐसे गेंदबाज़, जिनके नाम सबसे अधिक बार किसी खिलाड़ी को LBW आउट करने का रिकॉर्ड है.

11- अनिल कुंबले 118 टेस्ट मैच खेलने के बाद शतक लगाने वाले दुनिया के एकमात्र क्रिकेटर हैं.

12- टेस्ट क्रिकेट में मुथैया मुरलीधरन (44,039) गेंद के बाद, कुंबले ने सबसे अधिक 40,850 गेंदें फेंकी हैं.

Source: indiatvnews

13- सबसे अधिक 35 खिलाड़ियों को 'कॉट एंड बोल्ड' करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड अनिल कुंबले के नाम.

भारत सरकार ने कुंबले को उनके शानदार खेल के लिए साल 1995 में अर्जुन पुरस्कार जबकि साल 2005 में पद्मश्री से सम्मानित किया.