हम भारतीयों का क्रिकेट से वही रिश्ता है जो ‘पारले’ जी का ‘चाय’ से है. मतलब ये कि दोनों एक-दूसरे के बिना अधूरे से लगते हैं. भारत में क्रिकेट धर्म की तरह पूजा जाता है, जबकि क्रिकेटरों को भगवान का दर्ज़ा तक दिया जाता है. फ़ैंस अपने चहेते क्रिकेटरों के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं. क्रिकेट जितना प्रतिभावान खिलाड़ियों की वजह से चर्चा में रहता है, उतना ही फ़ैंस की वजह से सुर्खियों में भी बना रहता है. कभी-कभी फ़ैंस की वजह से स्‍टेडियम में ऐसी घटनाएं घट जाती हैं, जो भुलाए नहीं भूलतीं.

ये भी पढ़ें- भारतीय क्रिकेट इतिहास का वो ख़ूबसूरत पल, जिसने हर भारतीय को क्रिकेट से प्यार करना सिखाया

indiatoday

आपने अक्सर देखा ही होगा फ़ैंस अपने फ़ेवरेट क्रिकेटर के पैर छूने, उनसे हाथ मिलाने और सेल्फ़ी लेने की ज़िद में मैदान के अंदर तक घुस जाते हैं. क्रिकेटर्स भी अपने फ़ैंस को निराश नहीं करते और उनकी इन प्‍यारी सी ज़िद को मान लेते हैं. महेंद्र सिंह धोनी के साथ ऐसी घटनाएं काफ़ी हुआ करती थी. 60 के दशक में एक और भारतीय क्रिकेटर थे जिनके प्रति महिलाओं की बेइंतहा दीवानगी थी.

reckontalk

दुनिया के हैंडसम क्रिकेटरों में शुमार अली बेग  

19 मार्च 1939 को हैदराबाद में जन्मे भारतीय क्रिकेटर अब्बास अली बेग (Abbas Ali Baig) अपने ज़माने में दुनिया के सबसे हैंडसम क्रिकेटरों में शुमार थे. अली बेग की दुनिया भर में ज़बरदस्त फ़ीमेल फ़ॉलोइंग हुआ करती थी. उनकी एक झलक पाने के लिए स्टेडियम लड़कियां से भर जाया करते थे. कई फ़ीमेल फ़ैंस तो ऐसी भी होती थीं जो उनसे मिलने मैदान तक पहुंच जाती थीं. ऐसा ही एक दिलचस्प वाक़या 60 के दशक में भी हुआ था.

gettyimages

ये भी पढ़ें- आज़ाद भारत का वो पहला कप्तान, जिसने अपने पहले ही टेस्ट मैच में शतक लगाकर रचा था इतिहास

बात 1959-60 के दशक की है. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम भारत दौरे पर थी. अब्बास अली बेग ने 1 साल पहले ही भारतीय टीम में डेब्यू किया था. इतने कम समय में ही उनकी गिनती दुनिया के सबसे हैंडसम क्रिकेटरों में होने लगी थी. सन 1960 में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मुंबई में टेस्ट मैच खेला जा रहा था. इस दौरान अब्बास अली बेग के साथ कुछ ऐसा हुआ, जिसे क्रिकेट प्रेमी कभी भूल नहीं सकते हैं.

gulfnews

1 जनवरी से 6 जनवरी 1960 के बीच भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट मैच शुरू हुआ था. ये 5 टेस्ट मैच की सीरीज़ का तीसरा मैच था. भारतीय टीम पहले बल्लेबाज़ी करने उतरी. भारत ने पहली पारी में 289 रन बनाए. इस दौरान नारी कॉन्ट्रेक्टर ने 108 रन बनाए थे, जबकि अब्बास अली ने 50 रनों का का योगदान दिया था. जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 8 विकेट पर 387 रन बनाए. इस दौरान भारतीय टीम पर मैच हारने का ख़तरा मंडरा रहा था. लेकिन अब्बास अली ने दूसरी पारी में भी अर्द्धशतकीय (58) पारी खेलकर भारत को टी ब्रेक तक 5 विकेट पर 200 रनों के पार पहुंचा दिया था.  

jagran

भरे मैदान में एक लड़की ने कर दिया था किस  

टी ब्रेक के बाद जब अब्बास अली बेग आउट होकर पवेलियन लौट रहे थे. इसी दौरान स्टैंड से अचानक एक लड़की निकलकर मैदान पर आ गई. इसके बाद वो सीधे पवेलियन की ओर लौट रहे अब्‍बास अली के पास पहुंची और उनके गाल पर लगातार KIss करने लगी. स्‍टेडियम में कुछ पल के लिए सन्नाटा छा गया. अगले ही पल वहां मौजूद फ़ैंस तालियां बजाने लगे. लड़की के Kiss करने की इस प्‍यारी हरकत को फ़ैंस तो एंजॉय कर रहे थे, लेकिन अब्बास अली का चेहरा शर्म के मारे लाल हो गया था.

twitter

ये भी पढ़ें- भारतीय क्रिकेट इतिहास का पहला टेस्ट मैच, जिसने हम भारतीयों को क्रिकेट से प्यार करना सिखाया

इस दौरान कमेंट्री कर रहे महान भारतीय क्रिकेटर विजय मर्चेंट KIss की गिनती कर रहे थे. कमेंट्री के दौरान मर्चेंट मज़ाकिया अंदाज़ में कह रहे थे ‘ये लड़कियां तब कहां थीं? जब मैं शतक और दोहरा शतक लगाया करता था. 

टेस्ट मैच के आख़िरी दिन भारत ने 5 विकेट खोकर 226 रनों के स्कोर पर पारी घोषित कर दी. ऑस्ट्रेलियाई टीम अपनी दूसरी पारी में 1 विकेट पर केवल 34 रन बना सकी. इसके बाद अंपायर ने दोनों कप्तानों की रजामंदी से टेस्ट को ड्रॉ घोषित कर दिया था.

livemint

कुछ ऐसा रहा अली बेग का क्रिकेट करियर  

अब्बास अली भारत के लिए ज़्यादा क्रिकेट नहीं खेल सके. 10 टेस्ट मैचों की 18 पारियों में उन्होंने 1 शतक और 2 अर्धशतक की मदद से कुल 428 रन बनाए थे. इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 112 रहा. प्रथम श्रेणी क्रिकेट की बात करें तो अब्बास अली बेग ने 235 मैचों में 12367 रन बनाए थे. इस दौरान उन्होंने 21 शतक और 64 अर्धशतक लगाए.  

indiatvnews

अब्बास अली बेग 1991–92 में ऑस्ट्रेलिया दौरे और 1992 क्रिकेट विश्व कप के दौरान भारतीय क्रिकेट टीम के कोच भी रह चुके हैं.