Commonwealth Games 2022: बर्मिंघम में चल रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत अब तक 6 पदक अपने नाम कर चुका है, जिसमें तीन गोल्ड और दो सिल्वर और एक कांस्य पदक है. जानकर हैरानी होगी कि सभी 6 पदक भारत को वेटलिफ़्टिंग में मिले हैं. वहीं, जानकर गर्व होगा कि इस गेम में 14 वर्षीय स्क्वैश प्लेयर अनाहत सिंह भी हिस्सा ले रही हैं, जिन्हें Commonwealth Games 2022 में भारत की सबसे युवा एथलीट कहा जा रहा है. आइये, इस ख़ास लेख में जानते हैं अनाहत सिंह के बारे में. 

आइये, अब विस्तार से पढ़ते हैं (Who is Anahat Singh in Commonwealth Games) ये आर्टिकल. 

स्क्वैश प्लेयर हैं अनाहत सिंह (Squash Player Anahat Singh)   

anahat singh
Source: jansatta

Who is Anahat Singh in Commonwealth Games: इंग्लैंड के बर्मिंघम में चल रहे Commonwealth Games 2022 में भारत के लिए एक के बाद एक पदक जीतने वाले खिलाड़ियों के साथ अनाहत सिंह की भी चर्चा हो रही हैं. अनाहत मात्र 14 वर्ष की हैं और इस छोटी उम्र में वो कॉमलवेल्थ गेम में भारत का प्रतिनिधित्व कर रही हैं. बता दें कि अनाहत सिंह स्क्वैश प्लेयर हैं.   

कमाल का प्रदर्शन दिखा रही हैं अनाहत सिंह   

anahat singh
Source: outlookindia

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अनाहत ने शुक्रवार को हुए Women's Singles राउंड ऑफ़ 64 में अपनी उम्र से बड़ी Saint Vincente & Grenadines की Jada Ross को लगातार के साथ तीन गेमों (पहले मैच में 11-5, दूसरे मैच में 11- 2 और तीसरे मैच में 11-0) में हराया.    

दिल्ली की हैं अनाहत सिंह   

anahat singh
Source: fistosports

Who is Anahat Singh in Commonwealth Games: Commonwealth Games 2022 में शानदर खेल से भारत का नाम रोशन कर रहीं अनाहत सिंह दिल्ली की रहने वाली हैं. उनका जन्म 13 मार्च 2008 को हुआ था. उनके पिता का नाम गुरशरण सिंह है, जो कि एक वकील हैं और वहीं उनकी मां का नाम तानी सिंह है, जो एक इंटीरियर डिज़ाइनर हैं. 


जानकारी के अनुसार, अनाहत सिंह ने 6 साल की उम्र से बैडमिंटन खेलना शुरू किया था, लेकिन बाद में उनकी दिलचस्पी स्क्वैश की प्रति बढ़ गई और वो इसी को उन्होंने आगे बढ़ाया.   

पीवी सिंधु से हुईं इंस्पायर   

anahat singh
Source: sportzcraazy

जैसा कि हमने बताया कि अनाहत सिंह ने शुरू में बैडमिंटन खेला और बाद में स्क्वैश की ओर बढ़ीं. उनके बारे में कहा जाता है कि भारतीय बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु को देखकर वो बैडमिंटन के प्रति आकर्षित हुईं थीं. अनाहत कहती हैं कि, “मैं अपनी बहन के साथ खेलने जाया करती थी और 15 से 20 मिनट सिर्फ़ हीट ही करती थी, लेकिन मैंने उस वक़्त इसे गंभीरता से नहीं लिया, क्योंकि मेरा ध्यान सिर्फ़ बैटमिंटन पर था. मैं एक बार अपनी बहन के साथ पश्चिम बंगाल में हो रहे टूर्नामेंट में गई थी, फिर धीरे-धीरे मेरी दिलचस्पी स्क्वैश की ओर बढ़ी.”    

 ब्रिटिश ओपन में स्वर्ण पदक जीता  

anahat singh
Source: rediff

Who is Anahat Singh in Commonwealth Games: अनाहत 9वीं क्लास की छात्रा हैं और युवा स्तर के कई टूर्नामेंट जीत चुकी हैं. अनाहत अपने गेम में अंडर 11 और अंडर 13 की नंबर एक की खिलाड़ी बन गई हैं. वहीं, 2019 में उन्होंने British Open (अंडर 11) में गोल्ड मेडल जीता था. वहीं, Asian Junior Championships में उन्होंने कांस्य पदक जीता था. 2020 में उन्होंने British and Malaysia Junior Open में रजत पदक जीता था. साथ ही साल 2021 में उन्होंने US Open Junior (under-15) में स्क्वैश टूर्नामेंट अपने नाम किया. 


इसके अलावा, इसी साल Asian Junior Squash Championship (U-15) में उन्होंने भारत को गोल्ड मेडल दिलाया था. वहीं, उन्होंने मात्र 14 साल में ही 46 सर्किट खिताब, दो नेशनल सर्किट खिताब, दो नेशनल चैंपियनशिप और 8 अंतरराष्ट्रीय खिताब जीत चुकी हैं.