Harjinder Kaur Who Won Bronze In Commonwealth: Commonwealth Games 2022 में भारत अच्छा प्रदर्शन कर रहा है और अब तक अपने नाम 9 पदक कर चुका है, जिसमें तीन गोल्ड, तीन सिल्वर और तीन कांस्य पदक शामिल हैं. वहीं, भारत को 9वां पदक दिलाने वाली खिलाड़ी हैं हरजिंदर कौर. हरजिंदर कौर ने वेटलिफ़्टिंग में में ये पदक जीता है और इसी के साथ भारत ने वेटलिफ़्टिंग में कुल सात पदक अपने नाम कर लिये हैं.


आइये, इस ख़ास लेख में जानते हैं हरजिंदर कौर के बारे में, जिन्होंने Commonwealth Games में कांस्य मेडल जीत देश का मान बढ़ाया है.     

आइये, अब विस्तार से पढ़ते (Harjinder Kaur Who Won Bronze In Commonwealth) हैं आर्टिकल.   

वेटलिफ़्टिंग में जीता कांस्य पदक   

republicworld

Harjinder Kaur Who Won Bronze In Commonwealth: बर्मिंघम में चल रहे Commonwealth Games 2022 में हरजिंदर कौर ने वेटलिफ़्टिंग में कांस्य पदक जीता है. इसी के साथ भारत ने 9 मेडल अपने नाम कर लिये हैं. हरजिंदर ने कुल 212 किलो वजन उठाया था, जिसमें 93 किलो स्नैच, जबकि जर्क में उन्होंने 119 किलो वजन उठाया. हालांकि, स्नैच में 90 किलो उठाने का उनका पहला प्रयास असफल रहा था. 


इस जीत पर हरजिंदर का कहना है कि वो बहुत खुश हैं और ओलंपिक में देश के लिए मेडल जीतना उनका सपना है, जिसे वो पूरा करना चाहती हैं.    

स्पोर्ट्स में करियर बनाना आसाना नहीं था   

Harjinder Kaur Who Won Bronze In Commonwealth: हरजिंदर कौर एक सामान्य परिवार से संबंध रखती हैं, जिनका परिवार आज भी एक कमरे के मकान में रहता है. उनके पास 6 भैंसे हैं और परिवार के अन्य सदस्य दूसरे के खेतों में काम करते हैं. इस तरह उनके घर का ख़र्चा चलता है. हरजिंदर भी परिवार के अन्य सदस्यों के साथ दूसरो के खेतों में काम किया करती थीं, इसलिए स्पोर्ट्स में करियर बनाना उनके लिए उतना आसान नहीं था.   

घास काटने वाली मशीन ने बढ़ाई बाजुओं की ताक़त   

Harjinder Kaur Who Won Bronze In Commonwealth: हरज़िंदर मानती हैं कि उन बाजुओं में जो ताक़त है, उसके पीछे कहीं न कहीं घास काटने वाली मशीन की वजह से आई है. वो मशीन चलाते वक़्त ही उन्हें अपने बाजुओं की ताक़त का अंदाज़ा हुआ था. वो कहती हैं कि घास काटने की वजह से ही उनके हाथों में इतनी ताक़त आई है. 


वहीं, परिवार की आर्थिक हालत ठीक न होने की वजह से उनका खेल में कदम रखना उतना आसान नहीं था. एक इंटरव्यू में हरजिंदर ने इस बात का ज़िक्र किया था कि उन्हें घर से महीने के 700 रुपए मिला करते थे, जिनमें से 350 रुपए घर से हॉस्टल जाने का किराया हुआ करता था. 

शुरुआत में कबड्डी में आज़माई किस्मत   

Harjinder Kaur Who Won Bronze In Commonwealth: जानकारी के अनुसार, वेटलिफ़्टिंग में आने से पहले हरजिंदर कौर ने कबड्डी में अपनी किस्मत आज़माई थी. इसके बाद उन्होंने टग ऑफ़ वॉर में हाथ आज़माया, लेकिन उन्हें किस्मत वेटलिफ़्टिंग में ले आई और आज वो इसी में अपना भविष्य बना रही हैं. अपने कॉलेज के दिनों में वो खेल से परिचित हुईं और 2016 में उन्होंने पहली बार वेटलिफ़्टिंग की. 


हरज़िंदर कहती हैं कि, “जब मैंने 2016 में शुरुआत की, तो मुझे अपने परिवार से कोई वित्तीय सहायता नहीं मिली, लेकिन मुझे मोरल सपोर्ट मिलता रहा. मेरे कोच परमजीत शर्मा ने उन दिनों मेरी बहुत मदद की और उन्हें विश्वास था कि मैं आज पदक लेकर आऊंगी और और मुझे लगता है कि उनके विश्वास ने मुझे मेरा पदक दिलाया है.”  

साल 2021 में पटियाला में राष्ट्रीय शिविर में उन्हें शामिल किया गया था और एक साल के भीतर वो राष्ट्रमंडल खेलों 2022 में कांस्य के साथ समाप्त करने में सफल रहीं.