Wrestlers Weird Ears: भारत में कुश्ती सदियों से चली आ रही है. कई देसी पहलवानों ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत का नाम रौशन किया है. इनमें सुशील कुमार, बजरंग पूनिया, अमित दहिया, नरसिंह यादव से लेकर फोगाट बहने (गीता-बबीता) और साक्षी मलिक जैसी महिला रेसलर का नाम शामिल हैं. 

Sushil kumar
Source: rediff

ये भी पढ़ें: ये हैं भारत की 7 टॉप महिला बॉडी-बिल्डर्स, इनकी मस्कुलर बॉडी देख हर किसी के पसीने छूट जाते हैं

मगर आपने एक बात नोटिस की होगी कि जितने भी पहलवान हैं, चाहें देसी हो या विदेशी, सभी के कान अलग ही दिखते हैं. कान की बाहर की खाल खुली हुई, सूजी और उभरी. मानो कान के अंदर किसी ने कोई जेल भर दिया हो.

bajrang punia
Source: indiatvnews

मगर सवाल है कि पहलवानों के कान ऐसे क्यों दिखते हैं? आज हम आपको इसी बारे में बताएंगे. दरअसल, साल 2016 के ओलंपिक्स के दौरान बबिता फोगाट का एक विज्ञापन आया था. इस एड में वो कहती हैं कि 'आपका किसी ने कान खींचा है? मेरा तो बचपन से कान खींचा भी गया है और तोड़ा भी गया है.'

Babita
Source: thequint

तो क्या कान खींचने से बबीता या उनकी तरह दूसरे पहलवानों का कान ऐसा होता है या उनके गुरू ही कान तोड़ देते हैं? जवाब है नहीं. ऐसा होता तो हममें से ज़्यादातर के साथ ऐसा ही होता, क्योंकि स्कूल में मास्टर साहब का ये फ़ेवरेट काम होता है. मगर ऐसा नहीं है. 

Source: onmanorama

Wrestlers Weird Ears-

दरअसल, इस कंडीशन को 'कॉलीफ़्लावर ईयर' (Cauliflower Ear) कहते हैं. इसमें होता ये है कि जब कोई शख़्स बहुत ज़्यादा फ़िज़िकल वर्क करता है, तो उसके शरीर का तापमान काफ़ी बढ़ जाता है. उस वक़्त कान पर लगा हल्का सा हाथ भी रक्त कोशिकाओं को फाड़ सकता है या कान की हड्डी को तोड़ सकता है.

पहलवानोंं के साथ ऐसा ही होता है. वो जब रेसलिंग करते हैं, तो कभी कान के बल गिरते हैं, कभी मैट पर रगड़ लग जाती है, तो कभी दूसरे पहलवान का हाथ या घुटना लगता है. ये बहुत ही दर्दनाक होता है. हालांकि, ये तुरंत पता नही चलता, मगर जब पहलवान की बॉडी ठंडी पड़ती है, तब उन्हें मालूम पड़ता है कि कान टूट गया है. 

Narsingh yadav
Source: toi

कान में ख़ून भर जाने से कान की बनावट में बदलाव आ जाता है. हालांकि, इससे सुनने की क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता. ये स्थिति बहुत से बॉक्सर्स और मार्शल आर्ट्स करने वालों के साथ भी देखी जाती हैं. हालांकि, अगर पहलवान कुछ सुरक्षा गियर पहनें, तो इस स्थित से बच भी सकते हैं.

तो आज आपको मालूम पड़ गया है कि पहलवानों के कान इसलिए अजीब होते हैं, क्योंकि वो रेसलिंग के दौरान टूट जाते हैं. (Wrestlers Weird Ears)