जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से लड़ते हुए 'सर्जिकल स्ट्राइक' के हीरो लांस नायक संदीप सिंह शहीद हो गए हैं. कुपवाड़ा में आतंकियों के ख़िलाफ़ सेना के एक ऑपरेशन के दौरान संदीप घायल होने के बावजूद अपनी टीम के जवानों को बचाने की ख़ातिर शहीद हो गए. इस ऑपरेशन में सेना ने पांच आतंकियों को मार गिराया, लेकिन अपने हीरो को भी खो दिया. संदीप सिंह 4 पैरा कमांडो टीम के साथ तंगधार सेक्‍टर में सर्चिंग टीम को लीड कर रहे थे.

घायल होने के बावजूद 2 आतंकियों को मार गिराया

Source: khabarnwi

संदीप को कुछ संदिग्‍ध गतिविधि की ख़बर मिली थी. ख़बर मिलते ही वो अपनी टीम के साथ लाइन ऑफ़ कंट्रोल की ओर निकल पड़े. सर्च ऑपरेशन के दौरान उन्हें कुछ पता चल पाता, पहले से ही घात लगाकर बैठे आतंकियों ने उनकी टीम पर हमला कर दिया. जवाब में सेना के जवानों ने भी गोलाबारी शुरू कर दी. टीम को लीड कर रहे संदीप ने मुंहतोड़ जवाब देते हुए दो आतंकियों को मार गिराया, लेकिन इस दौरान वो घायल हो गए. घायल होने के बावजूद संदीप ने आतंकियों का डटकर मुक़ाबला किया. अपनी टीम को कवर करने के दौरान आतंकियों की एक गोली उनके सिर में जा लगी. इसके तुरंत बाद उनके साथी जवान उन्हें हॉस्पिटल ले गए, लेकिन तब तक वो दम तोड़ चुके थे.

Source: newstracklive

इस ऑपरेशन में सेना ने पांच आतंकियों को मार गिराया. सर्चिंग टीम ने आतंकियों के पास से बड़ी संख्‍या में हथियार बरामद किये.

Source: newstracklive

30 साल के शहीद लांस नायक संदीप सिंह अपने पीछे पत्नी और एक पांच साल के बेटे छोड़ गए. उनकी शहादत की ख़बर मिलने पर गुरदासपुर में उनके गांव में मातम पसरा है. अपने हीरो को खोने के गम में हर किसी की आंखें नम हैं, लेकिन परिवार को बहादुर बेटे की शहादत पर फ़क्र है. संदीप का पार्थिव शरीर आज उनके पैतृक गांव कोटला ख़ुर्द लाया जाएगा, जहां उन्हें सलामी के बाद अंतिम विदाई दी जाएगी.

साल 2007 में हुए थे सेना में शामिल

संदीप साल 2007 में सेना में भर्ती हुए थे. वो बचपन से ही सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करना चाहते थे. लांस नायक संदीप सिंह उसी कमांडो टीम का हिस्‍सा थे जिसने 'सर्जिकल स्‍ट्राइक' के दौरान पीओके में घुसकर आतंकियों के कैंप तबाह किए थे.

Source: timesnownews