दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं. एक तो वो जो सिर्फ़ अपने लिए जीते हैं और दूसरे वो जो दूसरों के लिए जीते हैं. देश-दुनिया में कई लोग ऐसे हैं, जिन्होंने समय-समय पर लोगों की मदद कर इंसानियत की मिसाल पेश की है.

ऐसे ही चंद लोगों में शुमार हैं तमिलनाडु की रहने वाली K Ponmanidevi. 85 वर्षीय Ponmanidevi पेशे से आध्यापिका हैं. कमाल की बात ये है कि इस उम्र में एक ओर जहां लोग दुनिया की मोह-माया से दूर सिर्फ़ अपने बारे में सोचते हैं, वहीं इन्होंने Erode ज़िले में बन रहे एक सरकारी स्कूल के लिए ख़ुद की ज़मीन दान में दे दी है, जिसकी कीमत लगभग 4 करोड़ रुपये होगी.

Source: TheHindu

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, 1964 में Ponmanidevi ने ज़िले के एक स्कूल में बतौर टीचर अपने करियर की शुरुआत की थी. Gobichettipalayam Taluk के Modachur स्थित गवर्नमेंट हाईस्कूल में पढ़ाकर 32 सालों तक बच्चों का भविष्य संवारने वाली, इस हेड मास्टर ने 1996 में नौकरी से रिटायरमेंट ले लिया.

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब Ponmanidevi ने समाज के लिए कोई नेक कदम उठाया है, इससे पहले भी वो लोगों की मदद का ज़रिया बनती रही हैं. 2006 में इन्होंने पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग को छात्र-छात्राओं के छात्रावास बनाने के लिए ज़मीन दी थी.

Source: Livemint

इसके बाद Ponmanidevi ने 2015 में Chithode गवर्नमेंट गर्ल्स हाईस्कूल को Higher सेकेंडरी स्कूल बनाने के लिए सरकार को 2 लाख रुपये का सहयोग किया. जनता के लिए अच्छा काम करने की इच्छा ज़ाहिर करते हुए Ponmanidevi कहती हैं, 'मैं जब तक ज़िंदा हूं, अच्छा काम करना चाहती हूं.'

सच में जब तक ज़िंदगी है दूसरों की मदद करते जाइए, क्योंकि ज़िंदगी रहे न रहे, पर आपके नेक काम हमेशा लोगों के ज़हन में याद बनकर रहेंगे.