दिन था 16 अक्टूबर 1978 का, जब भारत और पाकिस्तान के बीच फैसलाबाद में टेस्ट मैच चल रहा था. एक नया बॉलर खेल रहा था इंडिया की तरफ़ से. इस गेंदबाज ने स्ट्राइक पर मौजूद पाकिस्तानी ओपनर माजिद खान को पहली बॉल फेंकी और गेंद उसके हेलमेट से टकराई और बाउंड्री के बाहर चली गयी. कमेंट्री कर रहे शख्स़ ने उस समय कहा कि पाकिस्तान को मिले अतिरिक्त के चार रन और भारत को मिला तेज गेंदबाज. ये गेंदबाज भारत को पहली बार वर्ल्ड कप चूमने का मौका देना वाला हरफनमौला क्रिकेटर कपिल देव था. आज भारत को पहली बार विश्व विजयी बनाने वाला ये शख्स़ 57 साल का हो जाएगा.

Source: Cricinfo

6 जनवरी 1959 को जन्मे कपिल ने अपने 14 साल के महान करियर के दौरान 131 टेस्ट खेले, जिसमें उन्होंने 434 विकेट लिए और 5,248 रन बनाए. वनडे मैचों में भी कपिल छाये रहे. अपने आकर्षक बाॅलिंग एक्शन के कारण वो हमेशा ही बैट्समैन को सताते रहते थे. उनके Outswing डिलीवरी का अभी भी शायद किसी बल्लेबाज के पास जवाब न मिले. 1980 में कपिल ने एक नई तरह की डिलीवरी की शैली विकसित कर दी, जो सालों तक कई बल्लेबाजों के लिए अबूझ रही. उसी बॉल को आज Inswinging Yorker के नाम से जानते हैं.

Source: Blogspot

गेंदबाजी में कुशल ये खिलाड़ी बैटिंग करते वक़्त इतना शानदार हुक और ड्राइव शॉर्ट खेलता था कि सब हैरान रह जाते थे. अब ये देखिये इस खिलाड़ी की बल्लेबाजी:

बल्लेबाजी देख ली आपने और गेंदबाजी नहीं देखी तो क्या देखा? अब देखिये इनकी हवा से बात करती गेंदों को बल्लेबाजों को छकाते हुए:

फिर हम कैसे भूल सकते हैं उस गौरवशाली पल को, जब भारत ने पहली बार क्रिकेट में विश्व विजेता होने का खिताब पाया था. भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ इस मैच में 183 रन बनाए थे, ऐसे में किसी को अंदाज़ा नहीं था कि हम जीत पाएंगे. विव. रिचर्ड्स का मदन लाल की गेंद पर कपिल देव ने जो शानदार कैच लिया, उसने भारत और वर्ल्ड कप के बीच की दूरी मिटा दी.

जब भारत ने दुबारा वर्ल्ड कप जीता तो हर एक खिलाड़ी में कपिल देव की थोड़ी-थोड़ी खूबी दिख रही थी. देश में जब भी कोई वर्ल्ड कप बोलता है, तो अगला शब्द कपिल देव ही होता है. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं कपिल देव जी.

Feature Image: CricInfo