हमने महाभारत के हीरो और विलेन्स के बारे में तो सुना है, लेकिन इन दोनों के बीच भी कुछ लोग होते हैं जो अपनी वफ़ादारी और अपनों के प्रति निष्ठा के कारण विलेन बन जाते हैं. ऐसा ही एक पात्र रामायण में था जिसे हम मेघनाथ या इंद्रजीत के नाम से जानते हैं.

रावण की चाहत थी एक सपूत

हम सब जानते हैं कि रावण जितना शक्तिशाली था, उतना ही ज्ञानी भी. उसे एक पुत्र की चाहत थी जो दुनिया का सबसे अच्छा पुत्र साबित हो. उसने अपने ज्ञान से सारे ग्रहों को ऐसे स्थान पर बैठाया जिससे उसे एक सपूत की प्राप्ति हो और वो शक्ति और ऐश्वर्य का धनी हो. रावण की चाहत पूरी हुई और मेघनाथ पैदा हुआ.

Image Source:img05

मेघनाथ नाम क्यों पड़ा

जब रावण का पुत्र पैदा हुआ तो उसके रोने की आवाज़़ बिजली के कड़कने जैसी थी. इस आवाज़ के कारण ही रावण ने अपने बेटे का नाम मेघनाथ रखा, जिसका मतलब होता है बिजली.

Image Source:121clicks

शुक्राचार्य ने सिखाई युद्ध विद्या

राक्षस गुरू ने मेघनाथ के अंदर का योद्धा पहचाना और उसे युद्ध के गुण सिखाए. उसे कई देवआस्त्रों का भी ज्ञान दिया, जिससे वो और बलशाली हो गया.

Image Source:s-media

स्वर्ग पर विजय प्राप्त की.

राक्षस और देवों के बीच अकसर युद्ध होता रहता था. एक बार इस युद्ध में रावण और उसके पुत्र मेघनाथ ने भी हिस्सा लिया. मेघनाथ ने अकेले ही इंद्र को पराजित कर उसे अपना बंधक बना लिया. ब्रह्मा को जब इस बात का पता चला तो वो वहां आए और इंद्र को छोड़ने के बदले मेघनाथ को एक वरदान देने की बात की.

Image Source:s-media

ब्रह्मा का वरदान

इंद्र को छोड़ने के बदले मेघनाथ ने ब्रह्मा से अमरता का वरदान मांगा. ब्रह्मा ने अमरता देने से मना कर दिया, लेकिन उसे वरदान दिया कि कोई भी युद्ध में मेघनाथ को नहीं हरा सकता. लेकिन इस पर भी एक शर्त रखी कि हर युद्ध से पहले उसे अपने पर्थयांगिरा देवी के लिए यज्ञ करना पड़ेगा. साथ ही ब्रह्मा ने मेघनाथ को इंद्रजीत नाम भी दिया.

Image Source:s-media

रामायण युद्ध

रामायण युद्ध में रावण की हार और कुम्भकर्ण की मौत के बाद इंद्रजीत युद्ध के लिए गया, जहां उसने कोहराम मचा दिया. भगवान राम की सेना उसके डर से भागने लगी.

Image Source:4.bp

हनुमान को भी हराया

धरती पर सबसे शक्तिशाली हनुमान को भी इंद्रजीत ने अपने देवअस्त्रों के ज़रिए हराया था.

Source Image:img12

इंद्रजीत के हाथों हार गए थे राम

इंद्रजीत ने भगवान राम को भी युद्ध में हरा दिया था. उसने अपनी मायावी शक्ती नागपाश से उन्हें बेहोश कर दिया था. जब भगवान को मारने के लिए इंद्रजीत ने हथियार उठाया, उसी वक़्त हनुमान भगवान राम को लेकर गायब हो गए.

Image Source:orig08

लक्ष्मण को दो बार हराया

इंद्रजीत ने अपनी मायावी शक्तियों के सहारे लक्ष्मण को युद्ध में दो बार पराजित किया. दूसरी बार तो लक्ष्मण मौत के करीब पहुंच गए थे, और उन्हें बचाने के लिए हनुमान संजीवनी ले कर आए थे.

Image Source:3.bp

राम की पूरी सेना पर अकेले भारी था इंद्रजीत

भगवान राम की सेना को अकेले हराने की ताकत थी इंद्रजीत के पास. लेकिन जब उसने युद्ध के अलग दिन लक्ष्मण को ज़िंदा देखा तो वो रावण के पास गया और अपने पिता से सीता को लौटाने का अग्रह किया. उसने रावण को समझाया कि राम कोई आम मानव नहीं, अगर वो लोग इस युद्ध को लड़ते रहे तो रावण की हार निश्चित है.

Image Source:upload

रावण ने किया मना

रावण ने इंद्रजीत की इस राय को ठुकरा दिया. रावण ने कहा कि वो युद्ध को जीतने के लिए यज्ञ करे और राम और लक्ष्मण को हराए. ये एक पिता का अपने पुत्र के लिए आदेश है.

Image Source:blogspot

राम ने जाना इंद्रजीत को हराने का तरीका

राम के साथी और रावण के भाई विभीषण ने इंद्रजीत की कमज़ोरी बताई. उन्होंने बताया कि जब इंद्रजीत यज्ञ में होगा तब उसके पास कोई हथियार नहीं होगा और उसे हराया जा सकता है. लेकिन ये चाल भी काम नहीं आई और इंद्रजीत उस हमले से बच कर निकलने में कामयाब रहा.

Image Source:hindufaqs

इंद्रजीत की हार

इंद्रजीत एक बात समझ गया था कि उसके पिता कभी भी सीता को वापिस नहीं करेंगे. साथ ही राम और लक्ष्मण कोई आम इंसान नहीं. अगले दिन इंद्रजीत को लक्ष्मण ने मार दिया.

Image Source:youtube

रामायण का सबसे बड़ा योद्धा

इंद्रजीत दुनिया का अकेला ऐसा शख़्स था जिसके पास ब्रह्मास्त्र, पशुपत्रास्त्र और वैश्णवास्त्र थे. अगर इंद्रजीत इन तीनों का इस्तेमाल युद्ध में करता तो शायद हमारा इतिहास कुछ और ही होता. इंद्रजीत इस युद्ध का सबसे बड़ा योद्धा था. उसने रावण को भी समझाया लेकिन उसके न मानने पर भी अपने पिता का साथ नहीं छोड़ा. उसे पता था कि इस युद्ध को जीतना नामुमकिन है और उसकी मौत पक्की. लेकिन को एक महान योद्धा की तरह इस युद्ध में लड़ा और वीरगति को प्राप्त हुआ.

Image Source:file2