'Netflix', 'Amazon Prime' और 'Zee5' जैसे कई डिजिटल कॅन्टेन्ट प्लेटफ़ॉर्म्स ने काफ़ी कम समय में काफ़ी दर्शक जुटा लिये हैं. आज कल जिसे देखो वो 'Netflix' और 'Amazon Prime' का सब्सक्रिप्शन ले रहा है, और उस पर कुछ न कुछ देखता हुआ दिखाई देता है. दर्शकों के बीच इन डिजिटल कॅन्टेन्ट प्लेटफ़ॉर्म्स की बढ़ती पॉपुलरिटी, छोटे पर्दे की घटती पॉपुलरिटी को दर्शाती है. ज़ाहिर सी बात है कि इन प्लेटफ़ॉर्म्स पर लोगों को टीवी से कुछ हटकर और अच्छा देखने को मिल रहा है.

Source : mashable

इसके साथ ही सवाल ये भी है कि छोटे पर्दे के कांसेप्ट में कहां कमी रह गई, जो दर्शक टीवी छोड़ कर 'Netflix' और 'Amazon Prime' पर आ गए? अब सालों से टीवी पर एक ही चीज़ दिखाओगे, तो जनता कब तक उनको देखती रहेगी? छोटे पर्दे से डिजिटल कॅन्टेन्ट की ओर रुख़ करने के लिए ये वजहें काफ़ी है.

1. रिएलिटी शोज़ में जज का बात-बात पर रो देना.

Source : Bollywoodmovies360

2. टीवी सीरियल में एक बहू का मक्खी बन जाना.

Source : scoopwhoop

3. घर में जब कोई साज़िश का पर्दाफ़ाश हो, तो घरवालों के चेहरे को अजीब तरह से फ़्रीज़ कर देना.

Source : punjabkesari

4. हर चैनल पर एक तरह का ही सीरियल दिखाना.

Source : misskyra

5. इश्क-रोमांस से कभी आगे न बढ़ना.

Source : timesnownews

6. रिएलिटी शोज़ में रिएलिटी कम ड्रामा ज़्यादा दिखाना.

Source : timesnownews

7. ये सीन तो फ़िल्मों में देख ही चुके हैं, फिर टीवी पर इन्हें रिपीट करने का क्या मतलब बनता है?

Source : intoday

8. असल ज़िंदगी में पुरुष इतने वेल्ले नहीं होते, जितने इन सीरियल्स में दिखाए जाते हैं.

Source : cdnimpuls

9. बिना वजह सीरियल की कहानी को सालों तक खींचना.

Source : pinkvilla

10. रियल लाइफ़ की सासें इतनी क्रूर नहीं होती, जितनी सीरियल्स में दिखाई जाती हैं.

Source : hotstar

11. धारावाहिक की कहानियां Realistic नहीं होती.

Source : hotstar

12. देखने के लिए कुछ नया नहीं बचा.

Source : dailyhunt

13. जैसे ही सीरियल के परिवार में सब कुछ ठीक होता है, तभी अचानक कई राज़ खुलते दिखाई देते हैं.

Source : Tellychakkar

14. एक मां सालों तक अपने ही बेटे के ख़िलाफ़ साज़िश रचती है.

Source : Quint

'Netflix' जैसे डिजिटल कॅन्टेन्ट पर तरह-तरह की वेब सीरीज़ दिखाई जाती हैं, जिसमें दर्शकोंं को कुछ नया और अलग देखने को मिले. अब आप ही बताइए आप कहां जाएंगे, वहां जहां आपको कुछ अच्छा और अलग देखने को मिले या वहां जहां वही घिसी-पिटी, पुरानी और साज़िशों भरी स्टोरी दिखाई जाती हैं?