कभी मेट्रो, बस या बाज़ार में गलती से पर्स चोरी हो जाये, तो ऐसा लगता है मानों दुनिया ही उजड़ गई हो. पैसों से ज़्यादा चिंता पर्स में रखे ड्राइविंग लाइसेंस, क्रेडिट कार्ड और मम्मी-पापा की रखी तस्वीर की होती है, जो आपसे कोसों दूर किसी दूसरे शहर में रहते हैं. ऐसे में चोर के लिए दिल से कैसे-कैसे लफ्ज़ निकलते हैं, उसे आप समझ ही सकते हैं.

Source: mobilecommercepress

ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश के होशंगाबाद के अमर चौक के रहने वाले मोहम्मद असलम में देखने को मिला, जो जुलाई में अपनी पत्नी के इलाज के लिए फ़रीदाबाद आये हुए थे. यहां वो किसी काम से दिल्ली के सदर बाज़ार गए, जहां मटके वाली गली में उनका पर्स चोरी हो गया. इस पर्स में 1200 के साथ ही कई ज़रूरी कागज़ थे, जिसकी रिपोर्ट असलम ने दिल्ली के सदर बाज़ार थाने में दर्ज करवाई.

Source: tripsavvy

पर्स चोरी होने की बात को असलम भी भूल गए थे, पर दो महीने बाद उनके घर एक कुरियर आया, जिसमें उनका पर्स भेजा गया था. इस पर्स को कुरियर के ज़रिये चोर ने भेजा था. इसके साथ ही उसने एक चिट्ठी भी भेजी थी, जिसमें उसने अपना नंबर दिया हुआ था.

असलम का कहना है कि जब उन्होंने चोर से बात की, तो उसने कहा कि 'मैं अपनी मां से बहुत प्यार करता हूं और आपके पर्स में रखी मां की फ़ोटो को देखकर समझ गया आप भी अपनी मां को प्यार करते हैं. इस फ़ोटो की वजह से ही मैं आपको आपका पर्स लौटा रहा हूं.' हालांकि चोर ने पर्स में रखे 1200 रुपये, तो नहीं लौटाए, पर इस चोर की हरकत देख कर लगता है कि सिर्फ़ मां ही नहीं, बल्कि मां की फ़ोटो में ढेर सारा प्यार छिपा होता है.

Feature Image Source: quizzle

Source: oneindia