हमारी धरती का वातावरण बदल रहा है. इस बदलाव से काफ़ी कुछ प्रभावित हुआ है और इसका असर भी हम सब साफ़ देख पा रहे हैं. वैज्ञानिकों ने भी इसके बारे में आगाह करना शुरु कर दिया है. इसी कड़ी में एक और बड़ा बदलाव देखने को मिला है ऑस्ट्रेलिया के Great Barrier Reef में. इसे देख कर शोधकर्ता परेशान हैं, क्योंकि वहां के समुद्र का पानी लगातार गर्म होता जा रहा है. इसका असर समुद्र के अंदर की चट्टानों पर साफ़ दिखने लगा है.

ऑस्ट्रलिया के समुद्र में चट्टान के ऊपर कोरल उगते हैं, जिन्हें करीब एक दशक लगता है पूरी तरह से बढ़ने में. लेकिन समुद्र के पानी के बदलते तापमान से इसका रंग उड़ता जा रहा है और शोधकर्ताओं का मानना है कि अब इनका ठीक हो पाना लगभग नामुमकिन है.

इस शोध की शुरुआत पिछले साल हुई थी. उस वक़्त इन कोरल्स ने अपना रंग बदलना शुरु किया था, लेकिन एक साल के अंदर ही ये कोरल पूरी तरह से बेरंग हो गए. शोधकर्ता मानते हैं कि ये एक गम्भीर समस्या है. ये एक अंदेशा है कि आने वाले वक़्त में समुद्री जीवों पर भी इसका असर देखा जा सकता है.

समुद्री कोरल काफ़ी रंगीन होते हैं, लेकिन पिछले साल जब शोधकर्ताओं का एक दल यहां पहुंचा तो उन्हें काफ़ी कोरल्स बेरंग दिखे. तुरंत शोध शुरू की गई और एक साल के अंदर करीब-करीब सारे कोरल्स के रंग खत्म हो गए.

शोधकर्ता इसके लिए पूरी तरह से Global Warming को ज़िम्मेदार मानते हैं. उनका कहना है कि साल 1998 और 2002 में पहले भी ऐसा हो चुका है. तब कोरल्स ने पूरी तरह से अपना रंग नहीं खोया था, लेकिन इस बार के हालात कुछ और ही बता रहे हैं.

अब सोचने की बारी हमारी है क्योंकि Global Warming इंसानों पर भी वही असर डालेगी, जो इन कोरल्स पर पड़ा है. अगर जल्द ही हम खुद पर लगाम न लगा पाए और आबादी के साथ-साथ प्रदूषण पर रोक नहीं लगा पाए, तो हमारे रंग नहीं खुद पूरी प्रजाति ही धरती से गायब हो जाएगी.

Image Source: Metro