दूसरों के लिए शादी यानि:

ख़ुशी, मस्ती, अच्छी फ़ीलिंग

हम भारतीयों के लिए शादी यानि:

ख़र्चा!

ख़र्चा!

ख़र्चा!

भारतीय घरों में शादी एक ऐसे इवेंट की तरह होती है, जिसके लिए परिवार वाले सालों से सेविंग्स करते हैं. अपनी सारी जमा पूंजी सिर्फ़ इसलिए लगा देते हैं, ताकि शादी में आया हर आदमी बोले, 'क्या शादी की है?' दुनिया को ख़ुश करने के इस कॉम्पटीशन में आदमी अपनी हैसियत से ज़्यादा पैसे ख़र्च कर देता है.

हमारे इस समाज के लिए एक बहुत बड़ा Example है एक ऐसी शादी, जो सिर्फ़ 20 हज़ार रुपयों में हुई है.

पाकिस्तान के रिज़वान ने हाल ही में शादी की और इस शादी का पूरा ख़र्च था, सिर्फ़ 20,000 रुपये.

रिज़वान एक फ़ोटोग्राफ़र हैं और वो अपनी शादी में किसी तरह का फ़ालतू ख़र्चा नहीं करना चाहते थे. उनके वलीमे में परिवार वालों और दोस्तों को मिलकर 25 गेस्ट थे. शादी का वेन्यू उनके घर की छत थी, पार्टी के लिए खाना बनाने के लिए उनके दोस्त ने अपने कुक को भेजा था. चिकन रिज़वान ख़ुद लेकर आये थे. पार्टी की डेकोरेशन के लिए लाइट उनके पिता ने Arrange की और कुर्सियां वो लोकल इलेक्टोन कमीशन के दफ़्तर से लेकर आये थे.

रिज़वान ने 'अपनी मर्ज़ी की शादी' का ज़िक्र करते हुए लिखा, 'अपनी शादी का ज़िक्र करते हुए मैं ये कहना चाहता हूं कि ख़ुश रहो. आप कितना बड़ा या छोटा फ़ंक्शन कर रहे हैं, इससे फ़र्क नहीं पड़ेगा. फ़र्क इससे पड़ेगा कि आप ख़ुश हैं या नहीं, वो ज़रूरी है.'

रिज़वान और उनकी पत्नी ने अपनी शादी में सिंपल सा नीला कुर्ता-सलवार पहना था और स्टार्टर में एक डिश ख़ुद उनकी पत्नी ने बनायी थी. ये कपड़े उन्हें गिफ़्ट के तौर पर मिले थे.

कुल मिला कर इनकी शादी का ख़र्च 20,000 में निपट गया. अपनी ज़िन्दगी का सबसे खूबसूरत पल इन्होंने अपनों के साथ शेयर किया और सारी दुनिया को एक सन्देश दे दिया कि शादी में ख़ुशियां मायने रखती हैं, पैसे नहीं.

आप पूरी कहानी यहां पढ़ सकते हैं.