ऑस्ट्रेलिया में शानदार जीत के बाद आज से टीम इंडिया का न्यूज़ीलैंड दौरा भी शुरू हो चुका है. 5 मैचों की वनडे सीरीज़ का आगाज़ शानदार रहा. नेपियर में खेले गए पहले मुक़ाबले में भारत ने न्यूज़ीलैंड को 8 विकेट से पटखनी दी. भारतीय गेंदबाज़ों की शानदार गेंदबाज़ी के आगे न्यूज़ीलैंड की पूरी टीम को 38 ओवर्स में 157 रन पर सिमट गई. 

Source: timesofindia

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और ऑस्ट्रेलिया में 'मैन ऑफ़ दी सीरीज़' रहे महेंद्र सिंह धोनी का जलवा न्यूज़ीलैंड में भी जारी है. जैसा कि आप सभी जानते ही हैं कि क्रिकेट की समझ रखने के मामले में धोनी से बेहतर शायद ही कोई होगा. विपक्षी बल्लेबाज़ के दिमाग़ में क्या चल रहा है धोनी उसे पहले ही भांप लेते हैं. आज भी मैदान पर कुछ ऐसा ही देखने को मिला. 

Source: espncricinfo

दरअसल, हुआ यूं कि न्यूज़ीलैंड की आख़िरी जोड़ी मैदान पर थी. गेंदबाज़ थे कुलदीप यादव, जबकि उनके सामने बल्लेबाज़ी कर रहे थे ट्रेंट बोल्ट. कुलदीप के दसवें ओवर की ये आख़िरी गेंद थी. इस दौरान धोनी विकेट के पीछे से लगातार कुलदीप को कह रहे थे कि 'रोकेगा... ये आंख बंद करके रोकेगा... उधर से डाल सकता है, इधर से नहीं आएगा... इस दौरान दोनों बल्लेबाज़ प्लानिंग करने लगे, तो धोनी ने कुलदीप को राउंड द एंड से गेंदबाज़ी करने की सलाह दी. 

अब कुलदीप गेंदबाज़ी के लिए तैयार थे... तभी धोनी बोले 'बीच वाले डंडे पे'. बस फिर क्या था, वही हुआ जिसकी भविष्वाणी धोनी ने की थी. कुलदीप ने बीच वाले डंडे पर ही गेंद फेंकी और ट्रेंट बोल्ट कुछ समझ पाते इससे पहले गेंद स्लिप में खड़े रोहित शर्मा के हाथों में थी. 

Source: news18.com

ट्रेंट बोल्ट कुछ इस तरह धोनी के बिछाये जाल में फंस गए और अपना विकेट गंवा बैठे. जब धोनी विकेट के पीछे होते हैं तो कोहली बेफ़िक्र होकर बाउंड्री पर फ़ील्डिंग कर रहे होते हैं उन्हें पता होता है कि धोनी सब संभाल लेंगे.