'अक़्लमंद तो तुम हो, नक़्लमंद बन सकते हो कि नहीं.'

'ऊपरवाला दुआ क़ुबूल करता है, मैं सिर्फ़ कैश लेता हूं.'

'मुझे हीरो बनने की कोई इच्छा नहीं, विलेन बनने का टाइम नहीं.'

ये दमदार डायलॉग हैं इमरान हाशमी की फ़िल्म 'Cheat India' के. इंजीनियरिंग, मेडिकल, बैंकिंग, मैनेजमेंट के ठप्पे के लिए बौराए इस देश में किस तरह लोग डिग्री के लिए लाखों लुटाने को तैयार रहते हैं, फ़िल्म इसी पर बनी है.

भारतीय छात्रों से ज़्यादा भारतीय माता-पिता को अपने बच्चे के पास इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट डिग्री या सरकारी नौकरी होने का शौक़ होता है. सौमिक सेन द्वारा लिखी और निर्देशित ये फ़िल्म इसी सोच के इर्द-गिर्द घूमती है.

अपने 'Serial Kisser' की छवि को छोड़ कर, इमरान इस फ़िल्म में व्यापारी के रोल में काफ़ी जंच रहे हैं.

ये रहा फ़िल्म का ट्रेलर:

फ़िल्म 25 जनवरी को रिलीज़ होगी.