भारत में ट्रकों का जब नाम आता है, तो सबसे पहले उसके पीछे लिखी सस्ती शायरियां याद आती हैं. खासतौर से भारत, पाकिस्तान और बाकी पड़ोसी देशों के ट्रक ड्राइवर्स अपनी ट्रकों को दुलहन की तरह सजाते हैं. यहां तक कि ट्रक आर्ट दुनियाभर में मशहूर है. लेकिन ट्रक प्रेम के मामले में थाईलैंड के ड्राइवर्स भी पीछे नहीं हैं. हाल ही में थाईलैंड के ट्रक ड्राइवर्स ने 'ट्रक पार्टी' आयोजित करवाई थी. इस पार्टी में सभी ड्राइवर्स अपनी ट्रकों के साथ मौजूद थे. ट्रकों का बकायदा स्पीकर्स, LED लाइट, ग्राफ़िक्स और म्यूज़िक सिस्टम के साथ तैयार किया गया था.

ये ट्रक पार्टी Rayong में आयोजित हुआ था और इसमें छोटी-बड़ी हर तरह की ट्रक के साथ लोग आए थे. किसी ने डिज़नी तो किसी ने Anime थीम के डिज़ाइन बनवाए थे. ये ट्रक आर्ट बनाने वाले आर्टिस्ट ने करीब 1600 डॉलर प्रति ट्रक लिया था. आयोजकों का मानना है कि इससे ट्रक ड्राइवर्स के आपस में बेहतर सम्बंध बनते हैं.

थाईलैंड में ट्रक्स काफ़ी लम्बी दूरी तय करते हैं, ऐसे में ड्राइवर्स की ये जान-पहचान काफ़ी मददगार साबित हो सकती है. लम्बी रूट की ट्रकों को चोरों से डर रहता है, कभी एक्सीडेंट या ट्रक ख़राब हो जाए तो भी ये अपनी ट्रक से लोगों को पहचान सकते हैं.

बैंकॉक के एक वेयरहाउस के प्रबंध निदेशक Sirintra Phichitphajongkit ने अपना एक सेक्शन ट्रक आर्ट को ही समर्पित कर दिया है, जहां उनके कर्मचारी सिर्फ़ ट्रक आर्ट ही बनाते हैं. उनके मुताबिक़ जब कोई ट्रक ड्राइवर का मनपंसद डिज़ाइन होता है, तो वो उसे मनोवैज्ञानिक तौर पर काम करने को प्रेरित करता है. हांलाकि, ट्रकों पर डिज़ाइन बनाना थाईलैंड में ग़ैरक़ानूनी है, लेकिन फिर में ड्राइवर्स छोटा-मोटा फाइन झेल लेते हैं.

Source- Hindustan Times