पुर्तगाल के लिस्बन में Archaeologists को एक महिला के मृत शरीर के कुछ अंश मिले. ये महिला 15वीं शताब्दी से 18वीं शताब्दी के बीच में जीवित रही होंगी.

महिला की मौत की वजह को लेकर पुरात्तव विभाग के शोधार्थी भी असमंजस में हैं और ये इस महिला की मौत के कारण को लेकर कुछ तय नहीं कर पा रहे हैं. पर वो ये अंदाज़ा लगा रहे हैं कि इस महिला की मौत, Ovarian Tumor के कारण हुई है, जिसमें दांत आ गए हैं.

महिला के गर्भ में मिले Tumor से 5 दांत हैं. ये दांत बहुत मज़बूत हैं और इस महिला के शरीर के अंदर ही से निकल आए थे. ये दांत किसी पुराने चाकू की तरह नुकीले हैं. मृत महिला ने इस अजीब सी चीज़ को महसूस तो किया ही होगा, पर ये बाहर किसी भी इंसान को नहीं दिखा होगा.

इस तरह के Tumors पहले भी पाए गए हैं. ये महिला इकलौती नहीं है जिसका Tumor इस तरह की चीज़ में परिवर्तित हो गया हो. महिलाओं के शरीर में 20% तक Tumor, Teratoma बन सकते हैं. गौरतलब है कि Teratoma से बाल, दांत, आंखें ये सब विकसित हो सकती हैं.

ये एक अद्भुत खोज है क्योंकि इस महिला की मौत सालों पहले हो चुकी थी. उस ज़माने में तो लोगों को इस बीमारी के बारे में पता भी नहीं था. इस महिला का Tumor इस बात का भी सुबूत है कि कैंसर बहुत पहले से ही हम मनुष्यों की ज़िन्दगी का हिस्सा था.

2003 मे जापान की महिला के शरीर के Tumor ने एक भयानक बच्चे का रूप ले लिया था. इस Tumor के सिर, आंखे, दांत सब विकसित हो गए थे. यही नहीं, इस महिला के Tumor का अपना दिमाग़ और पेट भी था.

बहुत पुराना है कैंसर का इतिहास

बहुत से लोगों का मानना है कि मॉर्डन लाइफ़स्टाइल के कारण ही कैंसर होता है. पर हक़ीकत ये है कि कैंसर बहुत पहसे से ही मनुष्यों के जीवन का हिस्सा रहा है. 1600 साल पुराने मृत शरीर में भी Teratoma Tumor के अवशेष पाए गए थे.

Neanderthal की मौत भी कैंसर से हुई थी. गौरतलब है कि Neanderthal, आदिमानव था और आज से तकरीबन 120,000 साल पहले ज़िन्दा था.

कैंसर शब्द भी हज़ारों साल पुराना है. ये शब्द पहली बार प्रयोग Hippocrates ने 5 BC में किया था. Hippocrates ने पहली बार कैंसर को एक बीमारी के रूप में देखा था. इससे पहले कैंसर को भगवान का श्राप ही समझा जाता था.

Source: Ancient Origins