मुंबई के Elphinstone स्टेशन पर हुई भगदड़ के कारण 22 से ऊपर लोगों की जानें जा चुकी हैं, मुम्बइकर्स से लेकर पूरे देश के लोग इस भगदड़ के लिए MCD, महाराष्ट्र सरकार को लताड़ रहे हैं.

मुबई लोकल के स्टेशन Elphinstone Road के लिए जिस रास्ते (सीढ़ियों) का इस्तेमाल किया जाता है, वहां मची इस भगदड़ की वजह थी ट्रेन की देरी और शॉर्ट सर्किट.

लेकिन इससे भी बड़ी वजह था सीढ़ियों का वो रास्ता जहां इस भगदड़ के कारण जानें गयीं. इस जगह को आने-जाने वाले दोनों यात्री इस्तेमाल करते हैं और इसकी हालत इतनी जर्जर है कि इसके भरभरा कर गिरने के लिए किसी बड़े झटके की ज़रूरत नहीं पड़ी. आज मुंबई में जो हुआ, उस हादसे की तैयारी महीनों से चल रही थी.

इस वक़्त ट्विटर पर शेयर किए जा रहा है ये एक ट्वीट, जिसने आज के हादसे पर बहुत बड़ा ख़ुलासा किया है.

फरवरी में किया गया ये ट्वीट साफ़ कर रहा है कि लोग इसकी हालत ठीक करने के लिए MCD और सरकार से कई बार शिकायत कर चुके थे, लेकिन सरकार को स्टेशन का नाम Elphinstone Road से प्रभादेवी स्टेशन करना ज़्यादा माकूल लगा. जिन लोगों की मेहनत की कमाई के टैक्स को इस तरह से बेवजह स्टेशन का नाम बदलने के लिए ख़र्च किया गया, शायद ये वही लोग थे, जिनकी जानें आज के हादसे में गयीं.

इस ट्वीट में ये साफ़ लिखा था कि इस जगह पर कोई हादसा होने की पूरी तैयारी हो चुकी थी. फिर भी प्रशासन को होश नहीं आया. जिस ट्विटर हैंडल से ये ट्वीट शेयर किया जा रहा है, उसने रेल मंत्री सुरेश प्रभु को भी इस समस्या पर चेताया था.

रेलवे ने इस ट्वीट का उत्तर ट्वीट में देकर आश्वस्त किया था कि इसे ठीक किया जाएगा लेकिन इस शिकायत पर कितना काम हुआ, ये बताने की ज़रूरत नहीं.

अब मृतकों के परिवारवालों को लाख रुपये दे कर मामला शांत होने का वेट किया जाएगा और फिर से मुंबई उसी जर्जर पथ पर दौड़ेगी. ये मुंबई है, ये किसी के लिए नहीं रुकेगी. चाहे उसे गड्ढों भरी सड़क से हो कर जाना पड़े, या फिर टूटने की कगार पर पहुंच चुके एकमात्र रास्ते से.