बीते रविवार को अमेरिका की यूनाइटेड एयरलाइन्स की फ्लाईट में क्रू-मेंबर्स के लिए जगह बनाने के लिए एक व्यक्ति को घसीटकर बाहर निकालने का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर एयरलाइन्स के प्रति लोगों का गुस्सा साफ़ दिखाई दे रहा है. हालांकि, बीते मंगलवार को यूनाइटेड एयरलाइन्स के सीईओ ने यात्री से माफ़ी मांग ली है.

ख़बरों के मुताबिक़, ये यात्री पेशे से एक डॉक्टर हैं और इनका नाम Devid Dao है. डॉक्टर डेविड के वकील ने मंगलवार को देर रात में एक स्टेटमेंट जारी कर इनकी पहचान को कन्फ़र्म किया है. साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि 'फिलहाल Doctor Devid की फ़ैमिली का ध्यान उनकी मेडिकल देखभाल पर केन्द्रित है. उनको शिकागो के एक हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है.'

U.S. Department of Transportation (अमेरिकी परिवहन विभाग) ने इस घटना की पूरी जांच शुरू की है और न्यूजर्सी के गवर्नर, Chris Christie ने ओवरबुकिंग वाली फ़्लाइट्स के लिए नए नियम-क़ानून बनाने की भी बात कही है.

हालांकि, यूनाइटेड कंपनी के सीईओ Oscar Munoz ने बीते मंगला वार को Doctor Devid से माफ़ी मांगते हुए एक स्टेटमेंट जारी किया है, लेकिन उसमें डॉक्टर का नाम नहीं लिया है. उन्होंने लिखा है कि 'मैं माफी चाहता हूं. हम इस मामले को ठीक कर देंगे.' इसके साथ ही Munoz ने कहा, 'मैं सभी इस यात्री से तहे दिल से माफ़ी मांगता हूं, जिसे जबरदस्ती घसीटकर फ़्लाइट से बाहर निकाला गया था. साथ ही मैं अपने सभी कस्टमर्स से इस व्यवहार के लिए माफ़ी मांगता हूं. आगे से किसी भी यात्री के साथ इस तरह का दुर्व्यवहार नहीं होगा.' अब उन्होंने घटना को 'वास्तव में भयानक' कहा है.

गौरतलब है कि इस घटना के वीडियो के वायरल होने के बाद से United Continental के शेयर्स में लगातार गिरावट आई है, जिसके कारण कंपनी को बहुत नुकसान हुआ है.

हालांकि, सोमवार को Munoz ने एक मेमो जारी किया था, जिसमें उन्होंने खुले तौर पर कंपनी के कर्मचारियों का बचाव किया था. और यात्री से माफ़ी मांगने के बजाए यात्री को ही जिम्मेदार ठहराया था. उनका कहना था कि यात्री को विमान से निकालने के लिए निर्धारित प्रक्रिया का पालन किया गया था.

Former Railroad Executive, Munoz ने 2015 में यूनाईटेड कंपनी में उच्च पद को संभाला था. उनके इस पद पर नियुक्त होने से पहले से ही कम्पनी पर एयरलाइन्स की परफॉरमेंस में सुधार करने का बहुत ज़्यादा दवाब था.

इस वीडियो में साफ़-साफ़ दिखाई दे रहा है कि कैसे एक यात्री को Chicago O'Hare International Airport पर खड़े United Airlines Flight 3411 से खींचकर नीचे उतारा जा रहा है. वीडियो में जो सुरक्षाकर्मी यात्री को फर्श पर घसीटते हुए विमान से बाहर ले जा रहे हैं, उनकी यूनिफॉर्म पर पुलिस लिखा हुआ है.

वीडियो के वायरल होने के बाद एक ऑनलाइन याचिका पर Munoz को पद से हटाने की मांग की गई, जिस पर मंगलवार की शाम तक लगभग 22,000 लोगों ने हस्ताक्षर भी किये. चाइनीज़ सोशल मीडिया की ट्विटर जैसी वेबसाइट Weibo पर इस घटना ने 480 मिलियन से अधिकयूज़र्स का ध्यान आकर्षित किया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यूनाइटेड के कुल U.S.-China airline ट्रैफ़िक का 20 फ़ीसदी हिस्सा Air China से आता है और इनकी चाइना के साथ पार्टनरशिप भी है. आंकड़ों के मुताबिक़, Air China अमेरिका की तीसरी सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी है. अमेरिका की किसी दूसरी एयरलाइन्स की तुलना में, चीन के अधिकतर शहरों के लिए यहां से सबसे अधिक उड़ाने भरी जाती हैं.

यूनाइटेड के कुल अमेरिका-चीन एयरलाइन ट्रैफिक का 20 प्रतिशत हिस्सा है और एयर चाइना के साथ साझेदारी है, देश की तीसरी सबसे बड़ी एयरलाइन, विश्लेषकों के अनुसार. यह किसी अन्य अमेरिकी वाहक की तुलना में अधिक चीनी शहरों की तरफ उड़ता है. पिछले साल, यूनाइटेड ने San Francisco से Hangzhou, जो इसका पांचवां सबसे बड़ा गंतव्य स्थान है, तक नॉनस्टॉप उड़ानें शुरू की थीं.

Viedo Source: ScoopWhoop News

Tyler Bridges, डॉक्टर Dao के साथ ही शिकागो से केंटुकी के लुइसविले जाने वाली फ्लाईट में सहयात्री थे और इन्होनें ही ये वीडियो ट्विटर पर पोस्ट किया था. इन्होनें पूरी घटना को अपने फ़ोन से रिकॉर्ड किया था. Tyler Bridges के अनुसार, एअरपोर्ट पर खड़े प्लेन से बाहर निकाले जाने से पहले डॉक्टर Dao बार-बार बोल रहे थे कि उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है क्योंकि वो चाइनीज़ हैं. Bridges ने बताया कि 'वो बोल रहे थे कि मैं एक डॉक्टर हूं और मुझे मरीजों को देखने के लिए समय पर पहुंचना है.'

यूनाइटेड एयरलाइन्स पहले भी फ्लाईट में यात्रियों के साथ दुर्व्यवहार के कारण कई विवादों में फंस चुका है. यूनाइटेड स्टेट्स में सोशल मीडिया की माइक्रो-ब्लॉगिंग साईट ट्विटर पर ये घटना अभी भी ट्रेंड कर रही है. कई यूज़र्स एयरलाइन के प्रति अपनी नाराज़गी को #NewUnitedAirlinesMotto और #BoycottUnitedAirlines के ज़रिये व्यक्त कर रहे हैं.

गौरतलब है कि पिछले एक महीने में यह इस प्रकार की दूसरी घटना है. कुछ दिनों पहले यूनाइटेड एयरलाइन्स ने दो लड़कियों को फ़्लाइट में सफर करने से इसलिए रोक दिया था क्योंकि उन्होंने लेगिंग्‍स पहनी हुई थी. उस वक़्त भी सोशल मीडिया पर अमेरिका की यूनाइटेड एयरलाइन्स के खिलाफ़ लोगों ने जमकर नाराज़गी जाहिर की थी.