बीते शुक्रवार की रात को उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के वीआईपी इलाके में एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने एप्पल कंपनी के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी को गोली मार दी.

Source: dnaindia

TOI के अनुसार, इस पुलिसवाले ने विवेक तिवारी को सिर्फ इसलिए गोली मार दी, क्योंकि उन्होंने पुलिस के इशारा करने के बाद भी गाड़ी नहीं रोकी. इस बात को लेकर पोलिसवाले और विवेक में थोड़ी सी झड़प हुई और उस कॉन्स्टेबल ने गोली चला दी. लखनऊ के एसएसपी के मुताबिक, आरोपी की पहचान पुलिस कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी के रूप में हुई है, जिसे गिरफ़्तार कर लिया गया है.

सूत्रों के मुताबिक़, ये घटना उस समय घटित हुई, जब विवेक अपनी एक कलीग, सना के साथ iPhone की लॉन्चिंग के बाद घर जा रहे थे.

पुलिस को दिए स्टेटमेंट में सना खान ने कहा,

हमारी गाड़ी के के आगे आकर पहले कॉन्स्टेबल ने अपनी गाड़ी रोकी और बाद में विवेक को रुकने का इशारा किया. ब्रेक लगाते लगाते गाड़ी थोड़ी आगे बढ़ गई और लैंप पोस्ट से जा टकराई. इसके बाद प्रशांत ने गोली चला दी जो विंड स्क्रीन से होती हुई विवेक को जा लगी. तुरंत ही विवेक को हॉस्पिटल ले जाया गया, लेकिन घायल तिवारी की हालत गंभीर थी.
Source: inkhabar

सना खान के स्टेटमेंट का वीडियो आप यहां देख सकते हैं:

इस पूरे मामले में ABP News से बात करते हुए विवेक की पत्नी, कल्पना तिवारी ने पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए कहा,

'पुलिस को मेरे पति पर गोली चलाने का कोई अधिकार नहीं, यूपी के मुख्यमंत्री यहां आएं और मुझसे बात करें.' उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बताएं मेरा और मेरे बच्चों का अब क्या होगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पुलिस का कहना है कि विवेक अनुचित स्थिति में थे. लेकिन अगर वो अनुचित स्थिति में थे, तो भी पुलिस को उनको घर से आकर गिरफ्तार करना चाहिए था. न कि उनपर गोली चलानी थी.'

वहीं इस पूरे मामले पर आरोपी कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी का कहना है,

'रात 2 बजे जब मैंने रास्ते पर एक संदिग्ध कार देखी जिसकी लाइट्स बंद थी, जब मैं कार के पास पहुंचा, तो विवेक तिवारी ने तीन बार मुझ पर कार चढ़ाने की कोशिश की और मुझे मारने की भी कोशिश की. मैंने आत्मरक्षा में गोली चलाई.'

कॉन्सटेबल के इस बयान पर विवेक के साथ कार में मौजूद सना खान ने कहा,

'मैं फिलहाल कुछ भी कह पाने की स्थिति में नहीं हूं. मैं चाहती हूं कि गुनहगार को सजा मिले. मैं किसी भी दबाव में नहीं हूं.'

मृतक तिवारी के परिवार वालों का कहना है कि वो तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे, जब तक कि ख़ुद सीएम योगी यहां नहीं आते हैं और मामले की निष्पक्ष जांच के आदेश नहीं देते हैं और आरोपी को सज़ा का हुक्म नहीं देते हैं.

इसी बीच विवेक की पत्नी कल्पना ने मामले की सीबीआई जांच की मांग की है. और जॉब सिक्योरिटी के साथ-साथ 1 करोड़ मुआवजे की मांग की है.

वहीं इस मामले को लेकर उत्तरप्रदेश की इस हत्याकांड के चलते सोशल मीडिया पर थू-थू हो रही है.

फिलहाल आरोपी पुलिस कॉन्सटेबल और उसके दूसरे साथी के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज किया गया है. पुलिस हत्या के कारण की पुष्टि करने के लिए ऑटोप्सी रिपोर्ट का इंतज़ार कर रही है. वहीं मामले में उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि मामले की जांच हो रही है और अगर एक बेगुनाह की हत्या पुलिस ने की है तो दोषी के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.