कुछ लोग दुनिया में अपने अनोखे कामों के लिये जाने जाते हैं. इन्हीं में एक हैं उषा किरण. उषा किरण देश की पहली महिला असिस्टेंट कमांडेंट हैं, जो नक्सल प्रभावित क्षेत्र बस्तर में तैनात हैं. यही नहीं, हाल ही में उन्हें वोग मैगज़ीन द्वारा 'यंग अचीवर ऑफ़ द ईयर' के अवार्ड से नवाज़ा गया. 28 वर्ष की ये महिला अफ़सर मूल रूप से गुड़गांव की रहने वाली हैं, जिन्होंने 25 साल की उम्र में ही CRPF ज्वाइन कर लिया था.

ऊषा अपने कई महान और नेक कार्यों के लिये प्रशंसा हासिल कर चुकी हैं. वहीं जब वोग ने उन्हें यंग अचीवर के ख़िताब से सम्मानित किया. तो उन्होंने कहा कि ये अवार्ड सिर्फ़ ऊषा किरण का नहीं है. ये पुरस्कार देश के हर उस सैनिक के लिये है, जो देश में शांति बनाये के लिये अपना खून और पसीना एक कर देते हैं.

Source : dailyhunt

बस्तर के अस्थिर क्षेत्र में अपनी सेवा दे रही ऊषा को CRPF की सबसे ख़तरनाक विंग कोबरा में असिस्टेंट कमांडर की ज़िम्मेदारी दी गई है, जिसे वो बाख़ूबी से निभा रही हैं. ऊषा को कोबरा 206 बटालियन में पोस्टिंग मिली है. रिपोर्ट के अनुसार, फ़ोर्स में उनकी एंट्री के साथ ही पहली पोस्टिंग दरभा में हुई थी. मौजूदा हालत में नक्सलगढ़ जैसे जानलेवा इलाके में वो एके-47 जैसे हथियारों का इस्तेमाल कर नक्सलियों का डट कर सामना करती हैं. महिला अधिकारी अपनी ड्यूटी निभाने के साथ-साथ जंगलों में सर्च ऑपरेशन भी चलाती है.

वहीं हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत के दौरान ऊषा ने कहा, 'मैं महिलाओं से बात करती हूं, तो वो कहती हैं कि मुझे पुरुष पुलिस अधिकारियों के साथ काम करने में डर लगता है, लेकिन मेरे साथ ऐसा नहीं है.'
Source : dailyhunt

ऊषा जिस जगह भी रहती हैं, अपनी अलग पहचान बना लेती हैं. शायद बहुत कम लोग ये बात जानते होंगे कि वो पूर्व राष्ट्रीय एथलीट भी हैं और तीन बार दिल्ली की तरफ़ से Triple Jump का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं. ऊषा को अपनी वर्दी से इतनी मोहब्बत है कि रेड कार्पेट पर उन्होंने उसे ही पहन कर रैंप वॉक किया था.

हमारी ओर से ऊषा किरण जी को सलाम!

Source : TBI