रात होते ही आपने टी.वी. पर Sauna स्लिम बेल्ट और संधिसुदा तेल जैसे प्रोडक्ट्स के विज्ञापन देखे होंगे, जो लोगों का ध्यान खींचने के लिए न जाने किस-किस तरह के दावे करते हैं. हालांकि बहुत से लोग इस बात से भली-भांति वाकिफ़ है कि ये केवल प्रोडक्ट बेचने के हथकंडे हैं. इसके बावजूद कई भोले-भाले लोग इनके जाल में फंस कर अपने पैसे बर्बाद कर देते हैं. अगर आप सोचते हैं कि इन प्रोडक्ट्स के चक्कर में सिर्फ़ आपके पैसे बर्बाद हुए हैं, तो ठहरिये क्योंकि आप अकेले इनके झांसे में नहीं हैं.

Source: theweek

भारत के उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू भी एक ऐसे ही विज्ञापन के चक्कर में फंस कर अपने 1230 रुपये डुबा चुके हैं. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के मुताबिक, उपराष्ट्रपति ने राज्यसभा को संबोधित करते हुए बताया कि 'उपराष्ट्रपति बनने के बाद मैंने एक विज्ञापन देखा, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि मेडिटेशन के ज़रिये आप केवल 28 दिनों में अपना वज़न कम कर सकते हैं. इसका लाभ उठाने के लिए मैंने 1230 रुपये दिए, जिसके बाद मुझे एक पैकेट मिला, जिसमें लिखा था ओरिजनल दवाई के लिए आपको 1000 रुपये और देने हैं.'

उपराष्ट्रपति ने इस मुद्दे को कंज़्यूमर अफ़ेयर्स मिनिस्ट्री के सामने उठाया, जिसकी जांच के बाद इस विज्ञापन के अमेरिका से प्रसारित होने की बाद आई. वैंकया ने आगे कहा कि 'सरकार को दूसरे देशों से प्रसारित होने वाले विज्ञापनों के लिए दिशा-निर्देश जारी करने चाहिए, जिससे भ्रामक विज्ञापनों को रोका जा सके.