इज़रायल और फिलिस्तीन बीच के संघर्ष से पूरी दुनिया वाकिफ़ है, लेकिन मातृत्व किसी सरहद और दुश्मनी से कोसों दूर है. मां और मातृत्व को कोई सरहद कोई युद्ध या कोई कट्टरपंथ कम नहीं कर सकता है. इस बात का साक्षात प्रमाण दिया है एक इज़राइली नर्स ने. जी हां, इन दिनों सोशल मीडिया पर फ़ोटोज़ वायरल हो रही हैं. जिसमें एक महिला एक नवजात बच्चे को स्तनपान करा रही है. अब आप सोचेंगे कि इसमें खास बात क्या है, लेकिन इसकी ख़ासियत जानने के बाद आप भी बाकी लोगों की तरह ही भावुक हो जायेंगे.

ये मामला दुश्मनी और देशों की लड़ाई से परे एक ऐसी नर्स का है. वायरल हो रहे वीडियो और फ़ोटो में आप देख पाएंगे कि ये इज़राइली नर्स कैसे एक फिलिस्तीनी महिला के नवजात बच्चे को ब्रेस्टफ़ीडिंग (स्तनपान) करा रही है. जहां इज़रायल और फिलिस्तीन दोनों देश एक-दूसरे के कट्टर दुश्मन हैं, वहीं इंसानियत और मानवता का उदाहरण दे रही ये फ़ोटो पूरी दुनिया में वायरल हो रही है. हर तरफ इसकी चर्चा भी हो रही है. अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लोग इस नर्स और उसके साफ़ दिल की तारीफ़ कर रहे हैं और लिख रखे हैं, 'इंसानियत से बड़ा कोई धर्म, देश कोई सरहद नहीं है.'

Source: dailymail

ख़बरों के अनुसार, एक सड़क हादसे में एक फलिस्तीनी महिला को बहुत चोट आई थी और हादसे के वक़्त ही उसके पति की मौत हो गई थी. हादसे के बाद महिला को इजरायल के करीम हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था. इस महिला के साथ एक नवजात बच्चा भी था, जो बुरी तरह से भूख के कारण रो रहा था. बच्चे को रोता, बिलखता देख कर हॉस्पिटल की यहूदी नर्स, जिसका नाम Ola Ostrowski-Zak है और वो एक इज़राइली महिला है, की ममता उमड़ आई और उसने रोते हुए बच्चे को गोद में उठाकर अपने सीने से लगा लिया और उसको स्तनपान कराने लगी.

Source: middleeastmonitor

Ola ने पहले बच्चे को करीब सात घंटों तक बोतल से दूध पिलाने की भी कोशिश की थी, लेकिन वो रोये ही जा रहा था, इसलिए उला ने बच्चे को स्तनपान कराने का निर्णय लिया.

Ola ने बताया, 'ये सब देखकर बच्‍चे की मौसी हैरान थी कि एक इज़राइली महिला बच्चे को दूध पिलाने के लिए कैसे तैयार हो गई, तब मैंने कहा कि हर मां यही करेगी.' नर्स ने ये भी बताया कि अपनी शिफ्ट के दौरान उसने बच्चे को 5 बार दूध पिलाया. अब परिवार को ये चिंता हो गई कि Ola की शिफ्ट ख़त्म होने के बाद बच्चे को दूध कौन पिलाएगा, तो Ola ने इस समस्या का हल भी निकाल लिया. उसने एक फेसबुक पोस्ट लिखी, जिस पर हज़ारों की संख्या में प्रतिक्रियाएं आई और कई महिलायें इस बच्चे को स्तनपान कराने के लिए आगे आयीं.

Source: topyaps

सोशल मीडिया पर Ola और बच्चे की फ़ोटो को हज़ारों लोगों ने शेयर किया है.

Ola ने मातृत्व और इंसानियत की एक अनूठी मिसाल कायम की है. किसी ने सच ही कहा है कि मां मां होती है, फिर भले ही वो किसी दुश्मन देश की महिला ही क्यों न हो. एक मां और उसकी ममता को कोई सरहद कोई देश नहीं बांट सकता है.