अब तक बचपन में आपने जलपरी की कहानी सुनी होगी, लेकिन पिछले दिनों सोशल मीडिया अपने साथ जलपरी लेकर हाज़िर हो गया. इस वायरल वीडियो से लोगों के बीच हड़कंप मचा हुआ है. किसी ने दावा किया कि उड़ीसा में जलपरी मिली है, तो किसी ने कहा कि पटना में गंगा किनारे जलपरी मिली है. इतना ही नहीं, वीडियो में जलपरी सांस लेती दिखाई दे रही है.

ज़रा नीचे दी गई इस अजीब सी तस्वीर को देखिए, जो कि रहस्य से भरी हुई है. ऐसा अजीबोगरीब जीव, जो पहले कभी किसी ने नहीं देखा था. दस सेकेंड के इस वीडियो में रहस्यमयी प्राणी का मुंह बिल्कुल मगरमच्छ जैसा दिख रहा है. साथ ही आंखें भी साफ़ दिखाई दे रही हैं और गले से लेकर कमर तक का हिस्सा इंसान से मिलता-जुलता है. इसके हाथ रस्सी से बंधे दिखाई दे रहे हैं, जबिक कमर का हिस्सा किसी मछली के आकार की तरह है.

इस वीडियो को देखने के बाद मन में कई सवाल आ रहे हैं, जैसे क्या वाकई जलपरी ऐसी होती है, या जल परी होती भी है नहीं और अगर ये जलपरी नहीं है, तो फिर क्या है? चलिए अब रहस्मयी वीडियो से पर्दा उठाते हैं और आपको बताते हैं कि आखिर इसकी सच्चाई क्या है. दरअसल, ये कलाकारी म्यांमार के रहने वाले एक आर्टिस्ट की है. ये कोई रहस्मयी जीव नहीं, बल्कि लकड़ी और फ़ायबर से बनी एक मूर्ती है. साथ ही इसके गले में एक मोटर फ़िट की गई है, जिस कारण मूर्ती सांस लेती दिखाई दे रही है.

देखा आपने किस तरह लोग पल भर में सोशल मीडिया पर वायरल चीज़ों के मोह जाल में फ़ंस जाते हैं? लोगों ने सिर्फ़ जलपरी मिलने का दावा किया बल्कि ये भी बताया कि कहां मिली है. पर सच्चाई और सबूत दोनों आपके सामने हैं, साथ ही सच और झूठ का फ़ैसला आप ख़ुद कर सकते हैं.

Source : Facebook