कहते हैं कि भगवान के दरबार में सब कुछ मिलता है. भगवान सबकी सुनते हैं. उनके दर पर कोई चोर जाए या ईमानदार, सभी अपनी मनोकामना पूरी करने की प्रार्थना करते हैं. हैदराबाद के चिल्कुर बालाजी मंदिर में भी कुछ ऐसा ही है. ये मंदिर 'वीज़ा टेम्पल' कहा जाता है. आपको सुनकर हैरानी होगी कि यहां लोग भगवान से कुछ और नहीं, बल्कि वीज़ा मांगने आते हैं.

ऐसी मान्यता है कि यहां विराजे भगवान बालाजी को नारियल चढ़ाने से लोगों को आसानी से वीज़ा मिल जाता है. इस कारण यहां हर हफ्ते 75,000 से 1,00,000 भक्त आते हैं. ये मंदिर 500 साल पुराना है.

11 चक्कर लगाकर मांगते हैं मन्नत

वैसे तो यहां लोग कई तरह की मन्नतें लेकर आते हैं, लेकिन अधिकतर लोग यहां आकर अपनी वीज़ा एप्लीकेशन के मंजूर होने की गुहार करते हैं. भक्त मंदिर के 11 चक्कर लगाकर अपनी मन्नत मांगते हैं. इस दौरान कुछ लोग भगवान को अपना पासपोर्ट, तो कुछ लोग नारियल चढ़ाते हैं. हालांकि, अन्य मंदिरों की तरह यहां दान पेटी नहीं है. अगर मन्नत पूरी हो जाए, तो यहां आकर मंदिर के 108 चक्कर लगाने होते हैं. इस मंदिर के बालाजी को 'वीज़ा बालाजी' भी कहते हैं.

तो अगर आपका भी वीज़ा नहीं मिल पा रहा है, तो भगवान के दरबार में गुहार लगाकर देखिए, शायद 'वीज़ा बालाजी' आपकी भी सुन लें. सरकारी दफ़्तर के चक्कर लगाने से बेहतर है कि वीज़ा वाले मंदिर के चक्कर लगाएं, शायद आपका काम जल्दी हो जाए.

Source: Bhaskar