मंगलवार को हाईजैक हुई इजिप्ट एयर की फ्लाइट के पीछे का कारण अगर आप आतंकवाद समझ रहे हैं तो ये गलत है. अपहरणकर्ता को तो बस अपनी एक्स-वाइफ़ से एक बार मिलना था! जी हां, सैफ़ एल्डिन मुस्तफ़ा नाम के यात्री ने इजिप्ट एयर की फ्लाइट को हाईजैक किया और उसे सायप्रस में लैंड होने के लिए कहा. हैरत की बात ये है कि कई मोबाइल कवर्स से उन्होंने एक नकली बॉम्ब वेस्ट बनाई और फ्लाइट को अपना रुख बदलने पर मजबूर कर दिया. वो बात अलग है कि अब मुस्तफ़ा को हिरासत में ले लिया गया है और प्लेन हाईजैक करने के उनके कारण की वजह से सोशल मीडिया पर उनकी बहुत खिल्ली उड़ रही है. इजिप्ट के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि 'ये आदमी आतंकवादी नहीं है, बेवक़ूफ़ है'.

Source: Independent

वैसे लगता है कि इस 'बेवक़ूफ़' ने फ्लाइट में कुछ दोस्त भी बना लिए हैं. देखिये इस यात्री ने रिहा होने से पहले अपहरणकर्ता मुस्तफ़ा के साथ फोटो खिंचवाई और सोशल मीडिया पर पोस्ट भी की. कितना खुश लग रहा है ये आदमी!

Source: Coed

लेकिन ये पहली बार नहीं हुआ है जब ऐसे अजीबोगरीब कारण से किसी सरफिरे ने फ्लाइट को हाईजैक किया है. ऐसी और भी घटनाएं हैं, जिनके बारे में जान कर आप हैरान रह जायेंगे.

1. बियर के बदले हाईजैकर ने किया आत्मसमर्पण

21 जून, 1985 के दिन एक शस्त्रधारी आदमी ने नॉर्वे की घरेलू फ्लाइट का अपहरण कर लिया था. इस फ्लाइट में 120 लोग थे और इस आदमी की मांग थी कि उसकी बात प्रधानमंत्री से कराई जाए. अपहरणकर्ता टॉयलेट के पास जा कर खड़ा हो गया जिससे पायलट और फ्लाइट अटेंडेंट पर नज़र रखी जा सके. उसे बियर की भी नियमित सप्लाई दी जा रही थी. एक घंटे बाद जब सारे पैसेंजर्स को उसने रिहा कर दिया, तो पुलिस अफ़सर ने पिस्तौल के बदले और बियर देने की शर्त रखी. उसने शर्त मंज़ूर कर ली!

Source: Oddee

2. पोप से जानना था 'फ़ातिमा' का तीसरा राज़, इसलिए किया प्लेन हाईजैक

पुर्तगाल में एक शहर है 'फ़ातिमा'. ऐसा कहा जाता है कि 1917 में वहां वर्जिन मैरी दिखाई दी थीं और उन्होंने तीन बच्चों को तीन राज़ बताये थे और उन बच्चों ने वो राज़ रोमन कैथोलिक चर्च तक पहुंचा दिए थे. तीन में से दो राज़ बताये जा चुके हैं, लेकिन तीसरा अभी भी एक रहस्य है. 'फ़ातिमा' शहर अब ईसाईयों का एक प्रमुख तीर्थ स्थल माना जाता है.

Source: Oddee

अब हुआ ये कि एक ऑस्ट्रेलियन व्यक्ति, लॉरेंस जेम्स डाउनी ने 1981 में डबलिन से लंदन जाने वाली फ्लाइट का अपहरण कर लिया और उसकी मांग थी कि पोप जॉन पॉल II दुनिया को फ़ातिमा के तीसरे रहस्य के बारे में बताएं. हाईजैक के बाद प्लेन को फ्रांस में उतारा गया, जहां 8 घंटे के संघर्ष के बाद डाउनी ने आत्मसमर्पण कर दिया.

Source: TheJournal

3. पत्नी और परिवार से था परेशान, प्लेन हाईजैक करने का बनाया प्लान

मास्क पहना एक परेशान और दुखी पति, ग्रेनेड और घर पर बने हुए पैराशूट के साथ फिलिपीन एयरलाइन की फ्लाइट में घुस गया और उसका अपहरण कर लिया. ये घटना मई, 2000 की है और उस समय फ्लाइट में 300 लोग थे. इस एयरलाइन के पायलट के हिसाब से ये आदमी बहुत गुस्से में था और बार-बार कह रहा था कि उसके परिवार ने उसे छोड़ दिया है और उसकी पत्नी का प्रेम संबंध किसी पुलिसवाले के साथ है.

Source: Wordpress

क्रू को धमकियां देने के बाद इस हाईजैकर ने मांग रखी कि सारे यात्री अपनी मूल्यवान वस्तुएं उसे दे दें. यात्रियों ने ऐसा ही किया. फिर उसने पायलट को बोला कि प्लेन को 6,000 फ़ीट की ऊंचाई तक लाये, जिससे वो अपने घर पर बनाए हुए पैराशूट के सहारे कूद सके.

Source: DailyMail

तीन दिन बाद, पुलिस को उस आदमी की लाश ज़मीन पर मिली. घर पर बनाया हुआ पैराशूट हवा में नहीं खुला और वही उस व्यक्ति की मृत्यु का कारण बना.

Source: TopTen

4. आत्महत्या करने के लिए किया प्लेन हाईजैक

2012 में एक फ्लाइट इंजीनियर, ऑबर्न कैलोवेय ने अपने उड़ान के घंटों के साथ धांधली की, जिससे उस पर अनुशासन संबंधी कार्यवाही बैठी. इस सब से परेशान उसने फेडरल एक्सप्रेस की फ्लाइट को हाईजैक करने का प्लान बनाया. उसका सोचना था कि अगर वो उड़ते हुए प्लेन को क्रैश कर देगा तो उसके परिवार को 2.5 मिलियन डॉलर जीवन बीमा पॉलिसी के तहत मिलेगा.

Source: YouTube

कैलोवेय ने अपने प्लेन के क्रू का भी मर्डर करने का प्लान बनाया, जिससे ऐसा लगे कि उनकी मौत प्लेन क्रैश के कारण ही हुई है. उसने प्लेन के कार्गो में कई हथोड़े, चाकू और एक गन छुपाई हुई थी. कैलोवेय ये नहीं जानता था कि क्रू उसे ऐसा नहीं करने देगा. उड़ती हुई फ्लाइट में कैलोवेय और क्रू के बीच घमासान हाथापाई हुई और चोटिल होने के बावजूद भी क्रू मेंबर कैलोवेय को पराजित करने में कामयाब हुए. साथ ही प्लेन को सफलतापूर्वक लैंड भी करवा दिया. अपने इस जुर्म की वजह से कैलोवेय को दो आजीवन कारावास की सज़ा हुई.

Source: Ceskatelevize

5. अकेली ऐसी हाईजैकिंग, जिसका राज़ आज तक राज़ ही है

1971 में डैन कूपर नाम के एक आदमी ने पोर्टलैंड से सीएटल जाने वाली फ्लाइट का अपहरण कर लिया. उसने फ्लाइट अटेंडेंट को एक नोट पकड़ाया, जिसमें लिखा था कि 'मेरे ब्रीफ़केस में बम रखा हुआ है और अगर ज़रुरत पड़ी तो मैं उसका उपयोग भी करूंगा. मैं चाहता हूं कि तुम मेरे पास बैठो क्योंकि ये प्लान हाईजैक हो चुका है'.

Source: Telegraph

सीएटल में लैंड होने के बाद कूपर ने 200,000 डॉलर कैश, 4 पैराशूट्स और फ्लाइट फ्यूल की मांग की. रुपये मिलने के बाद उसने तीन पायलट और एक फ्लाइट अटेंडेंट के अलावा सारे यात्रियों को जाने दिया. उसने पायलट्स को मेक्सिको के रास्ते उड़ने को कहा, लेकिन पोर्टलैंड के ऊपर उसने प्लेन का दरवाज़ा खोला और कूद गया. उसके बाद कूपर को कहीं नहीं देखा गया. कुछ लोगों का अनुमान है कि प्लेन से कूदते वक़्त कूपर की मृत्यु हो गयी, लेकिन आज तक असलियत सामने नहीं आई है.