भारतीय सीमा के अंतर्गत आने वाले सभी रेलवे स्टेशनों का संचालन व देख-रेख भारतीय रेलवे करता है. लेकिन, जानकर हैरानी होगी कि देश में एक ऐसा भी अनोखा रेलवे स्टेशन है जिसका संचालन भारतीय रेलवे नहीं बल्कि एक गांव के लोग करते हैं. गांव वालों के हाथों ही इस रेलवे स्टेशन की पूरी ज़िम्मेदारी है. क्यों इस रेलवे स्टेशन को गांव वाले चलाते हैं (Railway station which is run by villagers), इसके पीछे एक दिलचस्प वजह है, जिसे हम इस लेख में आपको बताएंगे. आइये, जानते हैं इस अनोखे भारतीय रेलवे स्टेशन के बारे में.   

आइये, अब लेख में आगे बढ़ते हैं और जानते हैं विस्तार से भारत के इस अनोखे रेलवे स्टेशन (Railway station which is run by villagers) के बारे में. 

rail
Source: timesofindia

भारत का अनोखा रेलवे स्टेशन  

jalsu
Source: indiarailinfo

भारत के इस अनोखे रेलवे स्टेशन का का नाम है Jalsu Nanak Halt railway station. ये अनोखा रेलवे स्टेशन राजस्थान में हैं और नागौर ज़िले से क़रीब 82 किमी की दूरी पर स्थित है. जानकारी के अनुसार, इस रेलवे स्टेशन का पूरा संचालन यहां के गांव वाले करते हैं. 

टिकट बेचने से लेकर रख रखाव  

जानकर आश्चर्य होगा कि गांववाले ट्रेन का टिकट काटने से लेकर इस स्टेशन (Railway station which is run by villagers) की पूरा ध्यान रखते हैं. जानकारी के अनुसार, इस स्टेशन पर 10 से ज्यादा ट्रेनें रुकती हैं. माना जाता है कि इस स्टेशन से अब 30 हज़ार से ज़्यादा आय हो रही है. यहां हर महीने 1500 टिकट बेचे जाते हैं यानी 50 टिकट रोज़ाना.  

इस वजह से गांववालों ने ली स्टेशन की ज़िम्मेदारी 

jalsu railway station
Source: deshduniyatoday

इस रेलवे स्टेशन को पहले भारतीय रेलवे ही चलाता था. इसे 1976 में चालू किया गया था. लेकिन, एक पॉलिसी के तहत उन सभी स्टेशनों को बंद करने का आदेश दिया गया जो कम रेवेन्यू वाले थे. इसमें जालसू नानक हाल्ट रेलवे स्टेशन भी शामिल था, जिसे 2005 में बंद करने का आदेश दिया गया था. 

लेकिन, गांव वालों ने इसका विरोध किया और 11 दिनों तक धरने पर बैठ गए. बाद में एक शर्त पर इस रेलवे स्टेशन को खोलने की बात रखी गई कि गांव वालों को ही इसे चलाना होगा. 

चंदा जुटाया गया था 

Jalsu
Source: nwr.indianrailways

गांव वालों ने शर्त मान ली थी. वहीं, कहते हैं कि इस काम के लिए उन्होंने आपस में चंदा इकट्ठा किया था. लगभग डेढ़ लाख रुपए चंदे से इकट्ठे किए गए थे. इन पैसों से 1500 टिकट ख़रीदे गए और बाकी पैसे निवेश में लगा दिए गए. साथ ही गांव वालों ने 5 हज़ार की सैलरी पर एक ग्रामीण को टिकट बेचने के काम पर लगाया.  

फ़ौजियों का गांव  

army
Source: indiatimes

जानकारी के लिए बता दें कि ये गांव फ़ौजियों का गांव कहा जाता है. यहां से लगभग 200 जवान भारतीय सेना में हैं और 250 से ज़्यादा रिटायर्ड पर्सन हैं. फ़ौजियों के आवागमन के लिए ही इस रेलवे स्टेशन की शुरुआत की गई थी. हालांकि, अब गांव वाले चाहते हैं कि इस स्टेशन को भारतीय रेलवे फिर से अपने हाथों में ले ले.  


उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी. अगर आप विषय से जुड़ी कोई बात कहना चाहते हैं, तो कमेंट बॉक्स की मदद ले सकते हैं.