History of the Elevator: देश के मेट्रो शहरों में मॉल से लेकर मेट्रो स्टेशन, बैंक, होटल, हाउसिंग सोसाइटी में हर जगह आपको लिफ़्ट (Lift) ज़रूर दिख जाएगी. नौकरीपेशा के लिए तो लिफ़्ट (Lift) में आना-जाना रोज़ की बात है. आज हर एक इंसान अपने दैनिक जीवन में लिफ़्ट (Lift) से कई बार आना-जाना करता है. इस दौरान हमें जिस फ़्लोर पर जाना हो हम झट से उसका नंबर से दबा देते हैं और लिफ़्ट (Lift) अपनी मंज़िल की ओर चल पड़ती है.

ये भी पढ़ें: जानते हो लोगों को ‘होम लोन’ देने वाला बैंक, ख़ुद किराए के मकान से क्यों संचालित होता है?

आपने अक्सर देखा होगा कि लिफ़्ट (Lift) में जितने फ़्लोर उतने ही नंबर लिखे होते हैं. इन नंबर्स के बीच दो बटन ऐसे भी होते हैं जिन्हें हम देखते तो हैं, लेकिन इनके बारे में हमें कोई जानकारी नहीं होती है. ये बटन कौन से हैं और क्या हैं चलिए जानते हैं.

दरअसल, आपने शॉपिंग मॉल, मेट्रो स्टेशन, बैंक, होटल और हाउसिंग सोसाइटी में 1, 2, 3, 4, 5… बटन के अलावा M और C बटन भी देखे होंगे. नंबर्स तो हमें फ़्लोर की जानकारी देते हैं, लेकिन M और C अल्फ़ाबेट के बटन किस काम के लिए होते हैं, इसकी अधिकतर लोगों को नहीं होती है.

edition

क्या होता है M बटन का मतलब?

अगर किसी Lift M बटन लगा है तो इसका संबंध Mezzanine से है. अगर आप M बटन दबाएंगे तो Mezzanine Floor पर आ जाएंगे. मेज़नाइन (Mezzanine) फ़्लोर का मतलब वो फ़्लोर, जो ग्राउंड से भी नीचे होता है, लेकिन बेसमेंट की तरह नहीं होता है. इस तरह के बटन आप दिल्ली मेट्रो स्टेशन की लिफ़्ट में देख सकते हैं.

newsncr

क्या होता है C बटन का मतलब?

अगर C बटन की बात करें तो इसका संबंध Concourse से है. ये बटन बिल्डिंग में कम, जबकि रेलवे स्टेशन, मेट्रो स्टेशन या बड़ी बिल्डिंग, हॉस्पिटल में ज़्यादा इस्तेमाल होता है. कॉनकोर्स (Concourse) का मतलब एंट्रेस वाले फ़्लोर से है, जहां काफ़ी बड़ा हॉल होता है. दरअसल, एयरपोर्ट या मेट्रो स्टेशन के अंदर घुसते ही जो बड़ा सा खाली स्थान नज़र आता है, उसे कोनकोर्स कहा जाता है. मतलब जिस स्थान पर काफ़ी लोग होते हैं, उसे कॉनकोर्स कहा जाता है.

railanalysis

क्या होता है RC बटन का मतलब?

अमेरिकन अंग्रेज़ी में ‘ग्राउंड फ़्लोर’ और “फ़र्स्ट फ़्लोर आम तौर पर समानार्थी (Synonymous) हैं. इस तरह से लिफ़्ट में ‘RC’ बटन का उपयोग Rez-De-Chaussee के लिए किया जाता है. आप जब भी किसी फ़्रेंच एलिवेटर में हों तो वहां ‘भूतल’ के लिए ‘G’ बटन देखने के बजाय आपको Rez-De-Chaussee (RC) का बटन दिखाई देगा. इसके अलावा भी दुनिया के अलग-अलग देशों की लिफ़्ट में अलग-अलग बटन बने होते हैं.

newsncr

क्यों हैं न कमाल की जानकारी! अब जब भी लिफ़्ट से आना जाना करोगे एक बार M और C बटन दबा कर ज़रूर देखना.

ये भी पढ़ें: जानते हो भारत में किसी दोषी को फांसी देने से पहले ‘गंगाराम’ को फंदे पर क्यों लटकाया जाता है?