मेरी बहन एक Strong लड़की है, Physically भी और Mentally भी. उस पर जल्दी से किसी बात का असर नहीं पड़ता. लेकिन कुछ दिनों पहले मैंने उसकी आंखों में वो भाव देखा, जो मैंने आजतक नहीं देखा था. उसकी लाल आंखों में आंसू जम गए थे, उनमें गुस्सा था. ऐसा गुस्सा तब आता है, जब आपके सामने कुछ बहुत ग़लत हुआ हो और आपका उस पर बस न चले. आपके मन में एक अजीब सी छटपटाहट हो, बेचैनी हो, कहीं न कहीं बेबसी हो.

Source: Cloudfront

उस दिन जो मेरी बहन की आंखों में था, उसके लिए ज़िम्मेदार एक लड़का था. 

कानूनी भाषा में बोलूं, तो Juvenile था. उसने मेरी बहन को ग़लत तरीके से छुआ था, सबके सामने, मौके का फ़ायदा उठा कर और वो हंस रहा था. हमने उसे यूं नहीं जाने दिया, पहले थप्पड़ मारा, पुलिस के पास ले गए... लेकिन उस लड़के की हरकत के निशां मैं आज भी अपनी बहन की आंखों में पढ़ सकती हूं, उसके चेहरे पर देख सकती हूं.

Source: Wordpress

कितनी नॉर्मल बात है किसी लड़की को छेड़ना या छूना? ख़ास कर जब कोई छोटा बच्चा ये कर रहा हो? वो भी नेशनल टेलीविज़न पर?

Source: Sony TV

सोनी टेलीविज़न पर आजकल एक ड्रामा सीरीज़ शुरू हुई है, नाम है 'पहरेदार पिया की'. बहुत से लोगों को इस शो के बारे में पता चला होगा. जो Regularly टीवी नहीं देखते, उन्होंने भी इस शो के बारे में अब तक सुन लिया होगा. इसमें दिखाया जा रहा है कि कैसे एक लड़का अपनी उम्र से कई साल बड़ी लड़की का पति है. मुझे इस शो के कॉन्सेप्ट से उतनी आपत्ति नहीं हुई, जितनी इसके पहले एपिसोड से हुई.

एक 23-24 साल की लड़की का पीछा कर रहा है एक बच्चा, उसे अपनी बांहों में भरता है और ये सब Normal समझा जा रहा है?

Source: Sony TV

इस शो के पहले एपिसोड को देखने के बाद कई लोगों ने इस पर ऊंगली उठायी, तो शो से जुड़े एक्टर्स और बाक़ी लोगों के Statement आये कि शो को उसके पहले एपिसोड से जज करना सही नहीं है. 

मैं आजकल के Shows से इस तरह की कोई Expectation नहीं रखती कि वो मेरे लिए प्रेरणा का काम करे, किसी की Life चेंज करे. यहां तक कि मैंने टीवी सीरियल से Entertain होने तक की Expectation भी नहीं रखी. लेकिन मैं ये कभी बर्दाश्त नहीं करूंगी कि किसी शो में Creative Liberty के नाम वो परोसा जाए, जो इस समाज में लड़कियों के साथ होने वाले Crime में बदल सकता है.

Source: SET

क्या इस शो से जुड़े लोगों को ये नहीं लगता कि एक छोटे बच्चे को एक बड़ी लड़की के साथ 'Romance' करता दिखा कर वो ग़लत Example सेट कर रहे हैं? क्या इस शो के निर्माता-निर्देशक ये भूल गए कि ये वही देश है, जहां एक 'बच्चे' ने दुनिया के सबसे जघन्य और निर्मम Gangrape की शुरुआत की थी. क्या वो भूल गए कि हर दिन ऐसा ही कोई 'नाबालिग' किसी लड़की की ज़िन्दगी बर्बाद कर रहा होता है और वो सिर्फ़ इस बिना पर छोड़ दिया जाता है कि वो Juvenile है?

एक लड़की होने के नाते मैं ये नहीं भूल सकती और न मैं ये भूल सकती हूं कि जिस 'हैवान' ने मेरी बहन के साथ ग़लत किया, वो भी एक 'बच्चा' था.

Source: Naukrinama

जिस देश में सिनेमा के नाम पर लड़कियों का पीछा करना, उन्हें छेड़ना, उनके साथ ज़बरदस्ती करना, उसकी ना को हां मां लेने को 'Romance' समझा जाता है, वहां कोई आश्चर्य नहीं कि कल को बच्चे ये सब करने पर उतारू हो जाएंगे.

इस शो का जो भी मकसद हो, इसकी Presentation बिलकुल ग़लत है और ये कहीं से भी सही नहीं ठहराया जा सकता. ये बात मैं उस बच्चे के मां-बाप से भी कहना चाहूंगी, जिन्होंने उसे इस तरह के शो का हिस्सा बनने दिया. वो बच्चा जानता भी नहीं कि वो क्या कर रहा है और वो किस तरह के Setup को Normalize कर रहा है.

Source: Filmi Interval

मुझे ये भी पता है कि ये शो बंद नहीं होगा क्योंकि टीवी की दुनिया लॉजिक से नहीं, TRP से चलती है. लेकिन जैसे लड़के का लड़की को छेड़ना, उसे सिर से पैर तक घूरना दुनिया के लिए आम सी बात है, वैसे ही कहीं किसी बच्चे का एक लड़की के साथ ग़लत करना, 'चलता है' न बन जाये.