उमंग कुमार के डायरेक्शन में बनी फ़िल्म 'भूमि' से संजू बाबा यानि, संजय दत्त एक बार फिर से बड़े पर्दे पर दमदार वापसी करने जा रहे हैं. रिलीज़ से पहले फ़िल्म के प्रमोशन में व्यस्त संजू बाबा ने आंखें नम कर देने वाला एक इंटरव्यूू दिया है. संजय दत्त द्वारा दिया गया ये अब तक का सबसे इमोशनल इंटरव्यू है.

DNA को दिए हुए इस इंटरव्यू में संजय दत्त ने अपनी ज़िंदगी के सबसे कठिन हालातों को याद करते हुए कहा, 'जब मैं जेल में सज़ा काट रहा था तब अकसर बच्चे मान्यता से मेरे बारे में पूछा करते थे. मान्यता बच्चों से मेरे जेल में होने की सच्चाई छिपाया करती थी. वो बच्चों से अकसर ये कह देती थी कि पापा शूटिंग के लिए गए हुए हैं. संजय दत्त ने कहा कि लेकिन आजकल के बच्चे बहुत समार्ट और समझदार हैं, बच्चे मान्यता से मेरी उनसे फ़ोन पर बात करवाने की ज़िद करते थे, लेकिन मान्यता को फिर झूठ बोलना पड़ता था. मान्यता बच्चों से कहती कि पापा शूटिंग के लिए पहाड़ों पर गए हैं, जिसके कारण वहां नेटवर्क नहीं आता और हमारी बात नहीं हो पाती.

संजय दत्त कहते हैं, उस वक़्त मैं और मेरा परिवार काफ़ी तकलीफ़ से गुज़र रहा था. सौभाग्य की बात ये थी कि जेल के अधिकारी 15 दिन में एक बार कुछ पलों के लिए फ़ोन पर बात करने के इज़ाज़त देते थे, तभी मैं बच्चों से बात कर पाता था. संजय कहते हैं बच्चों के बड़ा होते ही मैं उन्हें ये सारी बातें डिटेल में बताउंगा.

संजय ने ये भी बताया कि उन्होंने मान्यता को पहले ही ये कहा दिया था, 'अगर मैं बच्चों से मिलने को कहूं भी तो भी, वो बच्चों को जेल लेकर मुझसे मिलने न आएं.'

बता दें साल 1993 मुंबई ब्लास्ट के बाद संजय को हथियार रखने के ज़ुर्म में टाडा कोर्ट ने दोषी करार दिया था और इस मामले में उन्हें 5 साल की सज़ा सुनाई गई थी. वहींं 22 सितंबर को संजय दत्त की कमबैक फ़िल्म 'भूमि' बड़े पर्दे पर रिलीज़ को तैयार है.