आलस इंसान का सबसे बड़ा शत्रु होता है. ये बात जानते सब हैं, लेकिन मानते कितने हैं? ख़ैर, आलसियों की इस भीड़ में भारत को 117वां स्थान प्राप्त हुआ है, क्या ये अच्छी ख़बर है? वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन (WHO) ने दुनिया के सबसे आलसी और एनर्जेटिक देशों की रिपोर्ट जारी की है. WHO ने ये सर्वे 168 देशो में किया था, जिसमें भारत 117वें नबंर पर है. इस सर्वे के लिए डाटा पॉपुलेशन के आधार पर लिया गया था. WHO के इस सर्वे में पाया गया कि दुनिया के 1.9 मिलियन लोग ऐसे हैं, जो नियमित रूप से व्यायाम नहीं करते.

168 देशों पर हुए इस सर्वे में युगांडा सबसे एनर्जेटिक देश होने के कारण पहले नंबर पर है. वहीं इस सर्वे के आधार पर किये गए कैलकुलेशंस में कुवैत आख़िरी नंबर पर है. रिपोर्ट के अनुसार, युगांडा में महज़ 5.5 फ़ीसदी लोग ऐसे हैं, जो एक्सरसाइज़ नहीं करते. सर्वे के इन नतीजों को 'द लांसेट ग्लोबल हेल्थ' नामक पत्रिका में प्रकाशित किया गया है, जिसमें ये भी बताया गया कि 2016 में भारत में शारीरिक श्रम कम करने वालों में 9 फ़ीसदी महिलाएं और 25 फ़ीसदी पुरुष थे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि WHO की रिपोर्ट में इंडिया को 117वीं रैंक नहीं दी गई है, बल्कि इसमें ये कहा गया है कि आंकड़ों के हिसाब से 34 प्रतिशत भारतीय व्यायाम नहीं करते हैं. और इस सर्वे के बाद किसी ने कैलकुलेशन करके भारत को 117वां स्थान दिया है.

आलसियों की इस लिस्ट में अमेरिका 143वें नंबर पर, यूके 123वें और सिंगापुर 126वें नंबर पर है. वहीं ऑस्ट्रेलिया 97वें, जबकि फ़िलिपींस 141वें स्थान पर है. WHO की रिपोर्ट के अनुसार, शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ्य रहने के लिए व्यायाम ज़रूरी है. वैसे देखा जाए, तो हम इतने भी आलसी नहीं हैं, क्योंकि हमसे पहले इस सर्वे में 116 देश और शामिल हैं.

Source : Indiatimes