पुणे में एक महिला ने अपने बच्चे को Ola कैब में जन्म दिया, जिसके बाद कम्पनी ने उसे एक शानदार तोहफ़ा दिया है. ईश्वरी सिंह विश्वकर्मा ने एक बेटे को जन्म दिया है. 2 अक्टूबर की सुबह वो कैब से अस्पताल जा रही थीं, लेकिन बच्चे का जन्म रास्ते में ही हो गया.

कम्पनी ने इस ख़ुशी के मौक़े पर 21 वर्षीय ईश्वरी और उनके बेटे को अगले 5 साल तक मुफ़्त राइड्स देने का ऐलान किया है. ये राइड्स उन्हें उनके बच्चे के नाम पर रखे गए स्पेशल कूपन के ज़रिये मिलेंगी.

प्राइवेट फ़र्म में काम करने वाले, ईश्वरी के पति रमेश सिंह विश्वकर्मा ने बताया कि ईश्वरी को अपनी डेट से 3 हफ़्ते पहले ही लेबर पेन शुरू हो गया था. डॉक्टर्स ने एक्सपेक्टेड डेट 24 अक्टूबर बताई थी. जब ईश्वरी को लेबर पेन शुरू हुआ, तब उन्होंने सुबह 7.20 पर कैब बुलाई. उन्हें कोंढवा से कमला नेहरू अस्पताल जाना था. उनके साथ रमेश की मां और भाई भी थे. रमेश बाइक से उनके साथ-साथ चल रहा था. चार-पांच किलोमीटर चलने के बाद उनके भाई ने उन्हें फ़ोन कर के बताया कि डिलीवरी कैब में ही हो रही है.
कैब ड्राइवर यशवंत गलंडे ने बताया कि ये बेहद अलग अनुभव था. रास्ते में ईश्वरी का दर्द ज़्यादा बढ़ गया था. अस्पताल उनके घर से 12 किलोमीटर की दूरी पर था. उन्होंने कैब नहीं रोकने का फ़ैसला किया पर कुछ देर बाद कैब में ही बच्चे का जन्म हो गया. उन्हें अस्पताल पहुंचने में 30 मिनट का वक़्त लगा.

उन्होंने अस्पताल को रास्ते से ही फ़ोन कर दिया था, डॉक्टर्स तैयार थे. कैब में ही बच्चे की गर्भनाल काटी गयी और मां और बच्चे को भर्ती कर लिया गया.

रमेश ने कहा कि उनकी पत्नी और बच्चे को सुरक्षित अस्पताल पहुंचाने के लिए वो कैब ड्राइवर का धन्यवाद करना चाहते हैं. कम्पनी ने भी ड्राइवर को इस काम के लिए सम्मानित किया और जब मां और बच्चे को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया, तो कम्पनी ने उन्हें ही ईश्वरी को लाने भेजा.

Source: Timesnow